• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • खुद के विधायक ने ही खोली पंजाब को नशामुक्त करने के सरकारी दावे की पोल, विपक्षी दलों ने की खिंचाई

खुद के विधायक ने ही खोली पंजाब को नशामुक्त करने के सरकारी दावे की पोल, विपक्षी दलों ने की खिंचाई

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

अब कांग्रेस के ही विधायक अपनी सरकार के राज्य को नशामुक्त करने के दावे की पोल खोलने में लगे हैं.

  • Share this:
पंजाब में 10 साल बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में कांग्रेस की सरकार बनी और पंजाब से नशे के खात्मे का वादा करके सत्ता में पहुंची. पंजाब की कांग्रेस सरकार ने नशे के खिलाफ सत्ता में आते ही लड़ाई छेड़ दी. पंजाब पुलिस की एसआईटी बनाकर पंजाब में नशा तस्करी करने वाले और नशा बेचने वालों के खिलाफ मुहिम शुरू कर दी गई.

सरकार के 4 महीने के कार्यकाल के दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और तमाम कैबिनेट मंत्री और कांग्रेस के नेता ये दावा करते रहे कि पंजाब से नशे को काफी हद तक खत्म किया जा चुका है. लेकिन अब कांग्रेस के ही विधायक अपनी सरकार के इस दावे की पोल खोलने में लगे हैं. पंजाब के अमरगढ़ के विधायक सुरजीत धीमान ने अपनी ही पार्टी के सरकार के दावे पर सवाल उठाते हुए कहा कि जनता से उन्हें जो फीडबैक मिल रहा है, उसके मुताबिक पंजाब में अभी भी काफी हद तक नशा बेचा और इस्तेमाल किया जा रहा है और सरकार को अभी नशे के खात्मे को लेकर और कदम उठाने होंगे.

सुरजीत धीमान ने शहीद ऊधम सिंह की याद में सोमवार को आयोजित किए गए सरकारी कार्यक्रम के दौरान ये बात सरकारी मंच से कहीं. हालांकि बाद में विधायक सुरजीत धीमान ने ये सफाई दी कि वो कहना चाह रहे थे कि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार ने काफी हद तक नशे पर लगाम लगा ली है लेकिन अभी भी और कई कदम उठाने होंगे.

अकाली दल और आप ने सरकार पर साधा निशाना
जब सत्ता में बैठी कांग्रेस के विधायक ने ही अपनी सरकार के नशे खात्मे के दावे पर सवाल उठाए हों तो विपक्षी पार्टियां आखिरकार कैसे पीछे रह सकती थी. अकाली दल की ओर से पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार के दावे क्या है और उनकी हकीकत क्या है, ये तो अब खुद उनकी ही पार्टी के लोग बयां कर रहे हैं. ये सरकार जनता को बरगला कर झूठे वायदे करके पंजाब की सत्ता पाने में कामयाब हुई है और अब इनके दावों और वादों की पोल खुद उनके ही विधायक और नेता खोल रहे हैं.

आम आदमी पार्टी ने कहा कि अगर विपक्षी पार्टी होने के नाते वो विधानसभा में यही बात कहती है कि पंजाब में नशे के खात्मे का कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार का वादा झूठा है और अभी भी पंजाब में नशे की बिक्री जमकर हो रही है तो कांग्रेस सरकार उनकी बात को झूठा कहती है लेकिन अब जब उनकी ही पार्टी के लोग अपनी सरकार के नशे खात्मे के दावे पर सवाल खड़े कर रहे हैं तो पंजाब को नशामुक्त करने के दावे की हकीकत अब सबके सामने आ चुकी है.

सरकार ने दी सफाई
अपनी ही पार्टी के विधायक के सरकार के नशे के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम और दावों पर सवाल खड़े करने के बाद सफाई देने के लिए पंजाब सरकार के दो मंत्री सामने आए. पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने कहा कि सुरजीत धीमान की बात का गलत मतलब निकाला गया है. वो तो बस ये कहना चाह रहे थे कि नशे के खिलाफ सरकार की मुहिम ठीक दिशा में जा रही है, लेकिन अभी भी और कदम उठाने की जरूरत है.

वहीं पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने कहा कि उनके विधायक ने बात तो सही कही है लेकिन जिस तरह के शब्दों का इस्तेमाल उन्होंने सरकारी मंच से किया वो ठीक नहीं है लेकिन उनका मतलब सरकार के नशे के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम पर सवाल खड़े करना नहीं था बल्कि उनके विधायक चाहते थे कि सरकार और भी कड़े कदम उठाए. पंजाब में करीब 90% नशे का खात्मा हो चुका है और सरकार अगर और कड़े कदम उठाएगी तो पंजाब से नशा पूरी तरह से खत्म हो जाएगा.

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनकी सरकार के प्रवक्ता कई बार ये बात कह चुके हैं कि उनकी अगुवाई में पंजाब काफी हद तक नशा मुक्त हो चुका है लेकिन अब जिस तरह से उनकी ही पार्टी के एक सीनियर विधायक ने सरकारी मंच से इस दावे की पोल खोली है तो ऐसे में पंजाब में नशे पर लगाम लगाने के पंजाब सरकार के दावे पर सवाल उठना लाजिमी है.

ये भी पढ़ें-
पंजाब विधानसभा चुनाव: 'सत्ता में आई कांग्रेस तो चार हफ्तों में खत्म करेगी नशा'
बीबीएन बना नशीली दवाओं का गढ़, पंजाब व हरियाणा से पहुंच रही नशीली खेप

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज