अपना शहर चुनें

States

पंजाब: पहला वैक्सीन डोज लेने की अंतिम तारीख बढ़ी, स्कूलों में होगी नियमित टेस्टिंग

बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि पंजाब सरकार ने राज्य में मामले बढ़ने की स्थिति में हालात से निपटने का प्लान तैयार कर लिया है.
बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि पंजाब सरकार ने राज्य में मामले बढ़ने की स्थिति में हालात से निपटने का प्लान तैयार कर लिया है.

Vaccination in Punjab: देश के दूसरे राज्यों में कोविड-19 (Covid-19) के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है. अब स्वास्थ्यकर्मी 19 के बजाए 25 फरवरी तक पहला डोज ले सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2021, 1:33 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब सरकार (Punjab Government) ने वैक्सीन का पहला डोज लेने की तारीख बढ़ा दी है. अब स्वास्थ्यकर्मी 25 फरवरी तक पहला डोज लगवा सकते हैं. पहले यह तारीख 19 फरवरी थी. इसके अलावा सरकार ने फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline Workers) के लिए वैक्सीन (Covid Vaccine) के पहले डोज की तारीख में बदलाव किया है. देश में वैक्सीन प्रोग्राम बीती जनवरी से शुरू हो गया है. खास बात है कि टीकाकरण (Vaccination) के मामले में पंजाब का प्रदर्शन अभी तक ठीक नहीं रहा है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के डेटा के अनुसार, राज्य में लक्षित लाभार्थियों में से 50 फीसदी को भी वैक्सीन नहीं दी गई है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा है कि दूसरे राज्यों में बढ़ते मामलों और नए वायरस स्ट्रैन्स को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. उन्होंने कहा है कि इस दौरान यह जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन दी जाए. क्योंकि वे फ्रंट लाइन में अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं. इसके अलावा सरकार ने राज्य में नए मामलों को लेकर भी तैयारी कर ली है.

यह भी पढ़ें: पंजाब में कोरोना के मामलों में गिरावट जारी, 24 घंटे में सामने आए महज 278 मामले



सिद्धू ने बताया कि पंजाब सरकार ने राज्य में मामले बढ़ने की स्थिति में हालात से निपटने का प्लान तैयार कर लिया है. सरकार ने इसके लिए एक रोडमैप तैयार किया है. खास बात है कि महाराष्ट्र में एक बार फिर कोविड-19 के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है. उन्होंने जानकारी दी कि अब तक वैक्सीन लगाए जाने के चलते राज्य में कोई गंभीर दुष्प्रभाव का मौत का मामला सामने नहीं आया है.

स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक, शिक्षण संस्थानों में कोरोना वायरस प्रसार को रोकने के लिए टेस्टिंग की योजना बनाई है. उन्होंने बताया कि सभी सिविल सर्जन्स को निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि स्कूल और उच्च शिक्षण संस्थानों में सभी स्टाफ और टीचर्स की टेस्टिंग सुनिश्चित करें. अगर कोई शिक्षक या छात्र पॉजिटिव आता है, तो बगैर देरी किए कॉन्टेक्ट ट्रैसिंग शुरू की जाए. इसके अलावा सिद्दू ने बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग ने हर स्कूल पर एक शिक्षक को तैनात किया है. ये शिक्षक स्कूल में कोविड सावधानियों को सुनिश्चित करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज