• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाब : किसान संगठनों का राजनीतिक दलों से चुनाव अभियान निलंबित रखने का अनुरोध

पंजाब : किसान संगठनों का राजनीतिक दलों से चुनाव अभियान निलंबित रखने का अनुरोध

किसान संगठनों ने आग्रह किया है कि राजनीतिक दल फिलहाल चुनाव प्रचार से बचें.  (प्रतीकात्‍मक चित्र)

किसान संगठनों ने आग्रह किया है कि राजनीतिक दल फिलहाल चुनाव प्रचार से बचें. (प्रतीकात्‍मक चित्र)

केंद्र सरकार (central government) के तीन कृषि कानूनों (Three Agricultural Laws) का विरोध (agitation) कर रहे किसान संगठनों (Farmer Organization) ने शुक्रवार को राजनीतिक दलों से पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) की तारीखों की घोषणा होने तक अपने चुनाव अभियान निलंबित रखने का अनुरोध किया ताकि उनके आंदोलन की ओर ध्यान केंद्रित रहे.

  • Share this:

    चंडीगढ़ . केंद्र सरकार (central government) के तीन कृषि कानूनों (Three Agricultural Laws) का विरोध (agitation) कर रहे किसान संगठनों (Farmer Organization) ने शुक्रवार को राजनीतिक दलों से पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) की तारीखों की घोषणा होने तक अपने चुनाव अभियान निलंबित रखने का अनुरोध किया ताकि उनके आंदोलन की ओर ध्यान केंद्रित रहे. बैठक की अध्यक्षता करने वाले किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने बताया कि कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल के नेताओं ने कहा है कि वे अपनी पार्टी के नेतृत्व से चर्चा करने के बाद इस बारे में निर्णय की घोषणा करेंगे.

    कांग्रेस का प्रतिनिधित्व उसके पंजाब प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने किया. बैठक के बाद सिद्धू ने ट्वीट किया, ” संयुक्त किसान मोर्चा के साथ एक सकारात्मक बैठक हुई और आगे के रास्ते को लेकर चर्चा हुई.” इन दोनों दलों के अलावा आम आदमी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, लोक इंसाफ पार्टी और शिअद (संयुक्त) के प्रतिनिधियों ने भी बैठक में भाग लिया जबकि कृषि कानूनों के पक्ष में रहने के चलते भारतीय जनता पार्टी को बैठक के लिए आमंत्रित नहीं किया गया.

    ये भी पढ़ें :  कन्नूर विश्वविद्यालय ने विवादास्पद पाठ्यक्रम की समीक्षा के लिए समिति बनाई

    ये भी पढ़ें :  कश्मीर की मिली-जुली संस्कृति को खत्म करने की कोशिश में RSS, BJP : राहुल गांधी

    राजेवाल ने कहा, ” हमने दलों से अनुरोध किया है कि चुनाव की तारीखों की घोषणा होने तक प्रचार अभियान शुरू नहीं किया जाना चाहिए. जो दल चुनाव की तारीखों की घोषणा होने से पहले प्रचार अभियान शुरू करने की जिद करेगी तो हम उसे किसान आंदोलन का विरोधी मानेंगे.”

    लगभग पांच घंटे चली बैठक के बाद राजेवाल ने संवाददाताओं से कहा, ” क्योंकि हमारा मोर्चा (आंदोलन) जारी है, ऐसे में किसानों का ध्यान मोर्चा की तरफ केंद्रित है. जब दल चुनाव प्रचार अभियान शुरू करेंगे और अपने कार्यक्रमों के लिए समर्थकों को जुटाएंगे तो इससे उनका ध्यान भटकेगा.”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज