कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को हर महीने 1500 देगी पंजाब सरकार, ग्रेजुएशन तक फ्री पढ़ाई

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह. (पीटीआई फाइल फोटो)

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह. (पीटीआई फाइल फोटो)

राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय (Punjab CMO) की तरफ से बृहस्पतिवार को जानकारी दी गई है कि ऐसे बच्चों को 1 जुलाई से हर महीने 15 सौ रुपये की आर्थिक मदद की जाएगी. इसके अलावा इन बच्चों की ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई का खर्चा सरकार वहन करेगी.

  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सरकार (Captain Amarinder Government) कोरोना महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों (Orphan Children) को लंबे समय तक मदद देने का फैसला कर चुकी है. राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से बृहस्पतिवार को जानकारी दी गई है कि ऐसे बच्चों को 1 जुलाई से हर महीने 15 सौ रुपये की आर्थिक मदद की जाएगी. इसके अलावा इन बच्चों की ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई का खर्च सरकार वहन करेगी. सरकार ने यह भी कहा है कि वह उन परिवारों की मदद भी करेगी जिनका कमाने वाला सदस्य कोरोना का शिकार हुआ है.

सरकार ने कहा है कि प्रभावित लोगों को आशीर्वाद योजना के तहत 51 हजार की आर्थिक मदद भी दी जाएगी. वहीं राज्य की स्मार्ट राशन कार्ड योजना के तहत अनाथ बच्चों को 21 वर्ष की उम्र तक मुफ्त राशन की व्यवस्था भी की जाएगी.

Youtube Video

संक्रमण को कम करने के लिए राज्यों में लगातार कोशिशें जारी
बता दें कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए राज्यों में लगातार कोशिशें जारी हैं. कोविड प्रतिबंधों का असर भी दिखने लगा है. कोरोना के केस पिछले 28 दिनों से लगातार कम हो रहे हैं. हालांकि, अभी भी स्थितियां डेंजर जोन में ही हैं. पंजाब में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू को बढ़ा दिया है.

बीते रविवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी मौजूदा प्रतिबंधों को 31 मई तक बढ़ाने के आदेश दिए हैं. कैप्टन ने राज्य के सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड प्रतिबंधों को सख्ती से लागू किया जाए. दुकानों को चरणबद्ध तरीके से खुलने देने के ऐलान के अलावा मुख्यमंत्री ने आवास क्षेत्र के लिए कई प्रोत्साहन/रियायतों की घोषणा की. कोविड-19 के तेजी से बढ़ रहे मामलों के बीच उन्होंने सरकारी विद्यालयों में बस 50 प्रतिशत शिक्षकों के आने और बाकी के घर से ऑनलाइन कक्षाएं लेने का आदेश दिया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज