• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाबः पुलिस में प्रमोशन के लिए मुख्यमंत्री ने शुरू की ‘वन रैंक अप प्रमोशन’ स्कीम

पंजाबः पुलिस में प्रमोशन के लिए मुख्यमंत्री ने शुरू की ‘वन रैंक अप प्रमोशन’ स्कीम

कैप्टन अमरिंदर सिंह

कैप्टन अमरिंदर सिंह

मुख्यमंत्री ने इस बात पर चिंता जाहिर की कि पुलिस में हेड कांस्टेबल तथा नॉन गेज़ेटेड अफसरों के रैंकों में ठहराव आ जाने के कारण फोर्स में निराशा बढ़ रही है

  • Share this:
    पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को पुलिस कर्मचारियों के लिए यकीनन सेवा तरक्की (एश्योर्ड करियर प्रोग्रैशन) के लिए ‘वन रैंक अप प्रमोशन’ स्कीम की शुरुआत की है. उन्होंने कहा कि इस स्कीम के लागू होने से पुलिस में तैनात कोई भी कर्मचारी ए.एस.आई के पद से पदोन्नत होने से पहले सेवा मुक्त नहीं होगा. मुख्यमंत्री सोमवार को पी.आर.टी.सी जहानखेलां में ट्रेनिंग हासिल कर चुके कांस्टेबलों की पासिंग आउट परेड में इकट्ठा समूह को संबोधित कर रहे थे.

    मुख्यमंत्री ने इस बात पर चिंता जाहिर की कि पुलिस में हेड कांस्टेबल तथा नॉन गेज़ेटेड अफसरों के रैंकों में ठहराव आ जाने के कारण फोर्स में निराशा बढ़ रही है, क्योंकि बहुत सारे पद खाली पड़े होने तथा योग्य पुलिस मुलाजिम होने के बावजूद उनको प्रमोशन नहीं मिल पा रहा था.

    ये भी पढ़ेंः श्रीगंगानगरः पंजाब पुलिस ने किया पेट्रोल पंप में लूट का खुलासा

    एश्योर्ड करियर प्रोगैशन (ए.सी.पी) स्कीम को औपचारिक तौर पर जारी करते हुए उन्होंने प्रमोट होने वाले 14 नए पुलिस अधिकारियों के कंधों पर स्टार लगाए. इस स्कीम के तहत 16 साल की नौकरी के बाद हेड कांस्टेबल से असिस्टेंट सब इंस्पैक्टर (ए.एस.आई), 24 साल की नौकरी होने के बाद असिस्टेंट सब इंस्पैक्टर (ए.एस.आई) से सब इंस्पैक्टर (एस.आई) और 30 साल की नौकरी के बाद सब इंस्पैक्टर (एसआई) से इंस्पैक्टर के तौर पर उन्नति का प्रावधान किया गया है.

    पी.आर.टी.सी में भर्ती जवानों को दी जाने वाली ट्रेनिंग को इंडियन मिल्ट्री एकेडमी तथा नैशनल डिफेंस एकेडमी जैसी बड़ी संस्थाओं के बराबर बताते हुए मुख्यमंत्री ने ट्रेनिंग सेंटर के मौजूदा ढांचे की अपग्रेडेशन के लिए राज्य के बजट में से 5 करोड़ तथा अपने निजी फंड से 50 लाख रुपये पुलिस अधिकारियों और उनके परिवारों के कल्याण के लिए दिए जाने की घोषणा की.

    इस दौरान मुख्यमंत्री को 9 महीनों की सख्त ट्रेनिंग के बाद पास आउट कर चुके 255 बैच के जवानों की ओर से शानदार सलामी दी गई. उन्होंने अपनी जवानी के दिनों को याद करते हुए कहा कि उन्होंने भी मिल्ट्री कैरियर के दौरान नैशनल डिफेंस एकेडमी (एन.डी.ए) से तीन साल और इसके बाद इंडियन मिल्ट्री एकेडमी (आई.एम.ए) से एक साल की ट्रेनिंग ली थी.

    ये भी पढ़ेंः 32 दिन में 42 मौत: ड्रग्स की गिरफ़्त से कब निकलेगा पंजाब?

    मुख्यमंत्री ने पुलिस की ओर से राज्य में से आतंकवाद को खत्म करने के लिए लड़ी लड़ाई के समय को याद करते हुए कहा कि पंजाब पुलिस ने 1800 शहादतें देकर राज्य में अमन शांति कायम की. उन्होंने कहा कि साल 1964 में पंजाब पुलिस की 4 टुकडिय़ों को हजरत बल में कानून व अमन शांति को कायम रखने के लिए भेजा गया था तथा उस समय के दौरान वे भी आर्मी अफसर के तौर पर वहां मौजूद थे.

    उन्होंने राज्य के बुरे हालातों वाले समय को याद करते हुए कहा कि राज्य के माहौल को खराब करने में आई.एस.आई का मुख्य तौर पर हाथ रहा है तथा अब ड्रग्स बेचने जैसी गतिविधियों को अंजाम देने वाले गैंगेस्टर राज्य के माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने गैंगेस्टरों को साफ तौर पर चेतावनी दी है कि या तो वे रास्ता छोड़ दें या नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहे. उन्होंने कहा कि नवनियुक्त पुलिस जवान इन गैंगस्टरों तथा नशा विरोधी अनसरों से निपटने में मुख्य भूमिका निभाएंगे.

    इस समारोह के दौरान मुख्यमंत्री की ओर से पास आउट हुए 2068 नवनियुक्त कांस्टेबलों को भारतीय संविधान तथा अपनी ड्यूटी के प्रति समर्पण रहने के प्रति शपथ भी दिलाई गई. इस दौरान उनकी ओर से मार्शल आर्ट तथा पी.टी. शो के अलावा पंजाब का प्रसिद्ध लोकनृत्य भंगड़ा भी पेश किया गया, जो आर्कषण का केंद्र रहा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज