महाराष्ट्र के बाद पंजाब और राजस्थान ने भी कोरोना वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया

पंजाब और राजस्थान के अलावा अरविंद केजरीवाल ने भी केंद्र सरकार से वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया है. (फाइल फोटो: Shutterstock)

पंजाब और राजस्थान के अलावा अरविंद केजरीवाल ने भी केंद्र सरकार से वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया है. (फाइल फोटो: Shutterstock)

Covid-19 in India: देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते पिछले 24 घंटे में 1.45 लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 3:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब और राजस्थान ने केंद्र सरकार से कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus) की कमी को लेकर अपनी चिंताएं जाहिर की हैं, और अब इस लिस्ट में पंजाब का भी नाम जुड़ गया है. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने कहा है कि राज्य के पास सिर्फ 5 दिनों का वैक्सीन स्टॉक पड़ा है. राज्य के लक्ष्य के मुताबिक हर दिन 2 लाख खुराक दी जाती है तो मौजूदा स्टॉक सिर्फ तीन दिन का बचा है. अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार से वैक्सीन की अगली खेप जल्द भेजने का आग्रह किया है. बता दें कि देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते पिछले 24 घंटे में 1.45 लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं. संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा है कि स्वास्थ्य व्यवस्था (Health System) पर संकट मंडराने लगा है.

वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा है कि राज्य में सिर्फ 48 घंटे के लिए वैक्सीन की खुराक बची है, गहलोत ने केंद्र सरकार से तुरंत वैक्सीन की 30 लाख डोज की मांग की है. अमरिंदर सिंह ने शनिवार की सुबह एक बयान जारी करते हुए कहा कि पंजाब के पास सिर्फ 5 दिनों की सप्लाई बची हुई है. राज्य में हर दिन 85 हजार से 1 लाख लोगों को टीका लगाया जा रहा है. उम्मीद है कि केंद्र सरकार जल्द ही वैक्सीन की सप्लाई सुनिश्चित करेगी. अगर राज्य टीकाकरण के प्रतिदिन के मौजूदा लक्ष्य 2 लाख टीकों की खुराक को हासिल करता है, तो मौजूदा स्टॉक सिर्फ तीन दिन चलेगा.

Youtube Video


अशोक गहलोत ने भी लिखा पत्र
वहीं, राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने पत्र में लिखा, "हम पहले से टीकाकरण के लक्ष्य को प्रतिदिन 5 लाख करना चाहते हैं, राजस्थान में वैक्सीन की मौजूदा भंडार क्षमता अगले दो दिनों में खत्म हो जाएगी. इसलिए केंद्र सरकार से रिक्वेस्ट है कि वैक्सीन की खुराक जल्द से जल्द भेजें." अमरिंदर सिंह ने अपने पत्र में केंद्र सरकार द्वारा राज्य में कम टीकाकरण होने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ये किसान कानून के मुद्दे पर केंद्र सरकार के खिलाफ राज्य की जनता में व्याप्त आक्रोश के चलते ऐसा हुआ है.

बता दें कि अमरिंदर सिंह और अशोक गहलोत ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की और कांग्रेस शासित दोनों राज्यों में कोरोना से जुड़े हालात पर अपनी बात रखी और पार्टी नेतृत्व को अवगत कराया.

इन दोनों राज्यों के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी केंद्र सरकार से वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया है. केजरीवाल ने कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी के पास सिर्फ 10 दिनों का स्टॉक बचा है. दिल्ली में शुक्रवार को संक्रमण के 8,500 से ज्यादा नए केस सामने आए थे. केजरीवाल ने कहा कि राज्य में संक्रमण के ये रिकॉर्ड मामले हैं और इन्हें रोकने के लिए जल्द ही राज्य सरकार प्रतिबंध का ऐलान करेगी.





दिल्ली से पहले महाराष्ट्र ने मुखर रूप से राज्य में कोरोना वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया था, जिस पर केंद्र और राज्य सरकार के बीच काफी बयानबाजी देखने को मिली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज