बेंगलुरु: 'बांग्लादेशियों' की अफवाह पर झुग्गी-बस्ती गिराने वाले इंजीनियर को हटाया गया

उत्‍तरी बेंगलुरू में झुग्‍गी बस्‍ती ढहाने वाले असिस्‍टेंट एग्जिक्‍यूटिव इंजीनियर को बीबीएमपी से हटाकर वापस पीडब्‍ल्‍यूडी भेज दिया गया है.

बीजेपी विधायक (BJP MLA) अरविंद लिंबावल्‍ली ने उत्तरी बेंगलुरु (Bengaluru) के करियम्माना अग्रहारा इलाके की झुग्गियों का एक वीडियो ट्वीट (Tweet) कर दावा किया था कि ये झुग्गियां बांग्लादेशी प्रवासियों (Bangladeshi Immigrants) की हैं. इन अवैध झुग्गियों में गैरकानूनी गतिविधियां (Illegal Activities) चल रही हैं. अधिकारियों को इसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. इसके बाद अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाकर रविवार को इस झुग्‍गी बस्‍ती को ढहा दिया गया.

  • Share this:
    रेवती राजीवन

    बेंगलुरु. कर्नाटक के उत्तरी बेंगलुरु (North Bengaluru) के करियम्माना अग्रहारा इलाके की सैकड़ों झुग्गियों को ढहाने का आदेश देने वाले लोक निर्माण विभाग (PWD) के असिस्‍टेंट एग्जिक्‍यूटिव इंजीनियर को बृहत बेंगलुरु महानगरपालिका (BBMP) से कार्यमुक्‍त कर दिया गया है. इंजीनियर नारायण स्‍वामी बीबीएमपी में प्रतिनियुक्ति (Deputation) पर थे. उन्‍हें वापस पीडब्‍ल्‍यूडी भेज दिया गया है. साथ ही पीडब्‍ल्‍यूडी को लिखित में कहा गया है कि झुग्गियों को ढहाने का आदेश देने के लिए स्‍वामी के खिलाफ कार्रवाई की जाए.

    अब भेजा जाएगा स्‍वामी के निलंबन का आदेश
    बीबीएमपी आयुक्‍त (BBMP Commissioner) बीएच अनिल कुमार ने News18 को बताया कि हमने स्‍वामी को वापस पीडब्‍ल्‍यूडी भेज दिया है. अब उनके निलंबन का ऑर्डर (Suspension Order) भेजा जाएगा. उन्‍होंने किसी को जानकारी दिए बिना ही डिमॉलिशन का सर्कुलर (Demolition Circular) जारी कर दिया था. उन्‍होंने अपनी मर्जी से फैसला लिया था. मुझे नहीं पता कि इसके लिए उन्‍हें किसी से आदेश मिला था या नहीं. हम पीडब्‍ल्‍यूडी सचिव से उनके निलंबन के लिए बात कर रहे हैं. इस मामले की जांच संयुक्‍त आयुक्‍त (Joint Commissioner) को सौंप दी गई है.

    बीजेपी विधायक के दावे पर की गई कार्रवाई
    बीजेपी विधायक (BJP MLA) अरविंद लिंबावल्‍ली ने उत्तरी बेंगलुरु (Bengaluru) के करियम्माना अग्रहारा इलाके की झुग्गियों का 12 जनवरी को एक वीडियो ट्वीट (Tweet) कर दावा किया था कि ये झुग्गियां बांग्लादेशी प्रवासियों (Bangladeshi Immigrants) की हैं. इन अवैध झुग्गियों में गैरकानूनी गतिविधियां (Illegal Activities) चल रही हैं. अधिकारियों को इसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. लिंबावल्‍ली का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर चल रहे एक वीडियो के आधार पर था. इसके बाद 18 जनवरी को इंजीनियर स्‍वामी ने मराथाहल्‍ली पुलिस को अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान झुग्‍गी बस्‍ती इलाके में मौजूद रहने को लिखा.

    मौखिक शिकायत पर ढहा दी गई बस्‍ती
    स्‍वामी ने पुलिस को भेजे पत्र में लिखा कि यह कार्रवाई मौखिक शिकायत के आधार पर की जा रही है. इससे पहले 11 जनवरी को बेंगलुरु पुलिस ने एक सर्वे नं 35/2 के मालिक को नोटिस दिया गया था कि इस जमीन पर जो झुग्गियां बनाई गई हैं, वे बिना किसी अनुमति के बनाई गई हैं. पुलिस वालों ने दावा किया कि इन झुग्गियों मेंबांग्लादेशी प्रवासी गैरकानूनी तरीके से रहते हैं. नोटिस में मालिक से अतिक्रमण हटाने और इसमें रहने वालों के विवरण स्पष्ट करने को कहा गया था. हालांकि, झुग्‍गी बस्‍ती में रहने वाले सभी लोगों के दस्‍तावेज वैध पाए गए. वे सभी पूर्वोत्‍तर राज्‍यों के साथ ही उत्‍तरी कर्नाटक के लोग पाए गए.

    वैध पाए गए झुग्‍गी में रहने वालों के दस्‍तावेज
    झुग्‍गी में रहने वाले लोगों के आधार (Aadhar), पैन (PAN) और वोटर आईडी (Voter ID) वैध पाए गए. असम (Assam) के लोगों ने नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटिजंस (NRC) में भी अपने नाम दिखा दिए. हालांकि, उनके दस्‍तावेज वैध पाए जाने से पहले ही वे बेघर हो चुके थे. झुग्‍गी बस्‍ती में रहने वाले लोगों का कहना है कि उन्‍हें अपने दस्‍तावेज तक दिखाने की अनुमति नहीं दी गई. बीबीएमपी के चीफ इंजीनियर ने सोमवार को स्‍वामी को तलब किया. उन्‍होंने पाया कि स्‍वामी ने कई गड़बड़ियां की हैं. झुग्‍गी बस्‍ती ढहाए जाने के बाद कुछ लोगों ने लोगों का डाटा इकट्ठा कर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. वहीं, कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) में कार्रवाई के खिलाफ जनहित याचिका (PIL) भी दायर कर दी गई है. हाईकोर्ट इस पर बुधवार को सुनवाई करेगा.

    ये भी पढ़ें:-

    दुनिया भर के नेताओं की डांट लगाने वाली ग्रेटा और ट्रंप फिर होंगे आमने-सामने

    रजनीकांत फिर बोले- पेरियार ने रैली में दिखाई थी राम-सीता की आपत्तिजनक तस्वीरें

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.