Assembly Banner 2021

केरल: कासिम साहिब ने बनवाया मंदिर, 19 सालों से कर रहे हैं पूजा

कासिम साहिब ने मंदिर में जिस दिन से पूजा करना शुरू की है, तब से ही मांसाहार छोड़ दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

कासिम साहिब ने मंदिर में जिस दिन से पूजा करना शुरू की है, तब से ही मांसाहार छोड़ दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

कासिम साहिब (Qasim Sahib) का परिवार एक समय काफी परेशानी से गुजर रहा था. अपनी परेशानियों को लेकर वह पुजारी के पास पहुंचे, तो उन्हें कोरगज्जा (Koragajja) का मंदिर बनाने की सलाह दी गई. उन्होंने जमीन के छोटे से टुकड़े पर मंदिर बनाया और तब से इसकी सेवा में लगे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 3, 2021, 11:56 AM IST
  • Share this:
मंगलुरु. केरल के दक्षिण कन्नड़ जिले में 65 साल के कासिम साहिब ने सांप्रदायिक सद्भावना (Communal Harmony) की एक शानदार मिसाल पेश कर रहे हैं. उन्होंने कोरगज्जा के मंदिर का निर्माण कराया है. इतना ही नहीं वे बीते 19 सालों से लगातार वहां विशेष और नियमित पूजा कर रहे हैं. हर रोज मंदिर में करीब 50 भक्त पहुंचते हैं. वे कासिम साहिब के पास पहुंचकर अपनी परेशानियां भी सुनाते हैं. इतना ही नहीं उन्होंने मंदिर में जिस दिन से पूजा करना शुरू की है, तब से ही मांसाहार छोड़ दिया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, केरल के पल्लकड़ जिले के चित्तालंचेरी गांव के कासिम साहिब करीब 35 साल पहले परिवार के साथ नौकरी की तलाश में कर्नाटक आए थे. यहां आने के बाद वे कावाथरू में बस गए. यह इलाका मंगलुरु से 40 किलोमीटर की दूरी पर है. एक समय ऐसा आया था, जब उनका परिवार बुरे दौर से गुजर रहा था. इसके बाद जब वे अपनी परेशानियों को लेकर पुजारी के पास पहुंचे, तो उन्हें कोरगज्जा का मंदिर बनाने की सलाह दी गई. उन्होंने जमीन के छोटे से टुकड़े पर मंदिर बनाया. यह मंदिर बालकुंज पंचायत के अंतर्गत आने वाले कावाथरू में है.

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: गर्जिया मंदिर को बचाने में जुटे मुसलमान, सलाउद्दीन बोले- भगवान एक है, उसके घर को बचाना सबसे बड़ा धर्म



साहिब के बनाए इस मंदिर में कोरागती की मूर्ति और साथ में दुर्गापर्मेश्वरी का मंदिर भी है. मंदिर में हर दूसरे वर्ष कोलोत्सव मनाया जाता है. इस गांव की आबादी 1500 है. गांव में रहने वाले हर धर्म और जाति के लोग मंदिर पहुंचते हैं. परेशानी बताने वाले भक्तों को साहिब कोरगज्जा के प्रसाद के तौर पर चंदन का लेप देते हैं.

वे बताते हैं '35 साल पहले ग्राम पंचायत की तरफ से आवंटित जमीन पर घर बनाने के बाद मुझे कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ा. गांव के दर्शन पात्री ने कहा कि मेरे घर के पास पहले कोरगज्जा की पूजा होती थी. इसलिए मैंने कोरगज्जा और दूसरे देवों की पूजा शुरू करने का फैसला किया.' वे कहते हैं 'मेरे बच्चे मस्जिद जाते हैं और वे कोरगज्जा और दूसरे हिंदू देवी-देवताओं को भी मानते हैं. मैंने मस्जिद जाना छोड़ दिया, क्योंकि मुझे कोरगज्जा के दर्शन मिले थे.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज