Covid-19: कोरोना से बचाने में वैक्सीन कितनी कारगर? तेलंगाना की रिपोर्ट से उठे सवाल

Covid-19: कोरोना से बचाने में वैक्सीन कितनी कारगर? तेलंगाना की रिपोर्ट से उठे सवाल
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, कोरोना वायरस की वैक्सीन को तैयार करने के लिए दुनिया भर में 170 से ज़्यादा जगहों पर कोशिश चल रही है.

तेलंगाना सरकार ने कहा है कि मंगलवार को राज्य में कोविड-19 (Covid-19 Pandemic) के दो ऐसे मरीज पाए गए, जो पहले भी कोरोना से संक्रमित हुए थे और इलाज के बाद ठीक हो गए थे. दो महीने के अंदर वो फिर से कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं. ऐसे में सवाल है कि कोरोना की वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) लग जाने के बाद व्यक्ति कभी इस वायरस से संक्रमित नहीं होगा, इस दावे पर भरोसा किया जा सकता है?

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 1:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Covid-19 Pandemic) महामारी से जंग में दुनिया के कई देशों के वैज्ञानिकों को दवा और वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) तैयार करने में कामयाबी मिल रही है. कई वैक्सीन अलग-अलग स्टेज के क्लिनिकल ट्रायल पर हैं. इस बीच कोरोना के दोबारा हमले की खबरों ने कुछ गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं. दरअसल, तेलंगाना सरकार ने कहा है कि मंगलवार को राज्य में कोविड-19 के दो ऐसे मरीज पाए गए, जो पहले भी कोरोना से संक्रमित हुए थे और इलाज के बाद ठीक हो गए थे. दो महीने के अंदर वो फिर से कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं. ऐसे में सवाल है कि कोरोना की वैक्सीन लग जाने के बाद व्यक्ति कभी इस वायरस से संक्रमित नहीं होगा, इस दावे पर भरोसा किया जा सकता है?

तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री इतेला राजेंदर (Etela Rajender) ने कहा, 'इसकी कोई गारंटी नहीं है कि कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो जाने के बाद दोबारा इस वायरस से संक्रमित नहीं होगा. पहली बार संक्रमण के बाद जिस व्यक्ति में पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडीज विकसित नहीं हो पाती हैं, उन्हें दोबारा कोविड-19 महामारी होने का खतरा बना रहता है. ऐसे में कोविड से रिकवर हो चुके लोगों भी एक्टिव मरीजों की तरह ही एहतिहात बरतने की जरूरत है.'

Coronavirus Cases in India: देश में कोरोना मामले 32 लाख के पार, इन 5 राज्यों में सबसे ज्यादा मरीज और मौतें



एक चैनल से बातचीत में इतेला राजेंदर ने कहा, 'अब तक एक लाख कोरोना केस में सिर्फ दो लोगों में ही दोबारा संक्रमण की पुष्टि हुई है. तेलंगाना में कोविड-19 से मृत्यु दर 0.7 से 0.8 प्रतिशत है. यानी संक्रमति होने वालों में 99 प्रतिशत से ज्यादा मरीज ठीक हो जा रहे हैं.'
 रिसर्चर्स ने कहा - वैक्सीन से कोरोना से बचाव की शत प्रतिशत गारंटी नहीं
तेलंगाना में ठीक हुए मरीज के दोबारा कोविड पॉजिटिव निकलने की यह रिपोर्ट आने से एक दिन पहले ही हांगकांग के रिसर्चर्स ने दावा किया था कि उन्हें कोविड-19 की दोबारा जकड़ में आने वाला पहला मरीज मिला है. रिसर्चर्स का कहना है कि किसी के एक बार कोविड-19 से ग्रस्त होने के बाद ठीक होने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि अब वह कोरोना के प्रति इम्यून हो गया है. उनका मानना है कि दुनियाभर में तैयार की जा रही वैक्सीन भी कोरोना से बचाव की शत प्रतिशत गारंटी नहीं देगी?

दुनियाभर में 170 से ज़्यादा जगहों पर वैक्सीन के लिए हो रही कोशिश
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, कोरोना वायरस की वैक्सीन को तैयार करने के लिए दुनिया भर में 170 से ज़्यादा जगहों पर कोशिश चल रही है. इन 170 जगहों में 138 कोशिशें अभी प्री क्लिनिकल दौर में हैं. 25 वैक्सीन का ट्रायल बहुत छोटे दायरे वाले फेज वन में चल रहा है. जबकि थोड़े बड़े दायरे में 15 वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. दुनिया की नज़रें उन कोशिशों पर टिकी हैं जहां फेज तीन का ट्रायल चल रहा है. यह मौजूदा समय में सात जगहों पर चल रहा है, जिसमें भारत का पुणे शहर भी शामिल है.

COVID-19 Update: दिल्‍ली में कोरोना के 1544 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा हुआ 1.64 लाख

दुनिया में रोजाना सबसे ज्यादा कोरोना के मामले भारत में
वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की लिस्ट में अमेरिका पहले पायदान पर है. यहां अब तक 59 लाख से ज्यादा लोग संक्रमण के शिकार हो चुके हैं. अमेरिका में पिछले 24 घंटों में 39 हजार से ज्यादा नए केस आए और 1261 लोगों की मौत हुई है. वहीं ब्राजील में 24 घंटे में 47 हजार मामले आए हैं. दुनिया में रोजाना सबसे ज्यादा कोरोना के मामले भारत में सामने आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज