अपना शहर चुनें

States

बाबा करें बवाल, पीटे मोटा माल, जानें- ऐसे ही बाबाओं की संपत्तियां!

सूत्रों के मुताबिक विवादित बाबाओं की जायदाद और आय के स्त्रोतों को परखने की तैयारी एसआईटी कर रही है।
सूत्रों के मुताबिक विवादित बाबाओं की जायदाद और आय के स्त्रोतों को परखने की तैयारी एसआईटी कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक विवादित बाबाओं की जायदाद और आय के स्त्रोतों को परखने की तैयारी एसआईटी कर रही है।

  • News18India
  • Last Updated: September 9, 2015, 7:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। काले धन पर बनी सुप्रीम कोर्ट की कमेटी की नजर अब बाबाओं की अकूत संपत्ति पर है। सूत्रों के मुताबिक विवादित बाबाओं की जायदाद और आय के स्त्रोतों को परखने की तैयारी एसआईटी कर रही है। दरअसल पिछले कुछ दिनों में विवादित बाबाओं की एक ऐसी फेहरिश्त सामने आई है जिनमें उनके जीवन शैली और संपत्तियों को लेकर खासा बवाल मचा है। ओडीशा के सारथी बाबा से लेकर पंजाब की धर्मगुरू राधे मां तक पर शिकंजा कस सकता है।

राधे मां की संपत्ति

पंजाब के मुकेरियां के एक छोटे से गांव से निकलकर मुंबई पहुंची राधे मां पर आरोप है कि उन्होंने माता की चौकी के जरिए अकूत संपत्ति हासिल की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राधे मां का मुंबई में चिकूवाड़ी स्थित आलीशान बंगला है। बाजार के लिहाज से इस बंगले की कीमत करीब 250 करोड़ रुपये है।



आपको बता दें कि इस बंगले के मालिक मिस्टर सिंह हैं। ये मिस्टर सिंह कोई और नहीं बल्कि राधे मां के बेटे हरजिंदर सिंह और भूपेंद्र सिंह हैं। सूत्रों की मानें तो मुंबई के दहिसर इलाके में एम मोटर्स नाम की एक बाइक एजेंसी राधे मां के पति मोहन सिंह उर्फ डैडी के नाम पर है। इस एजंसी को राधे मां का छोटा बेटा चलाता है। इस एजेंसी के दफ्तर में राधे मां के कई पोस्टर्स भी लगे हैं।
सूत्रों के मानें तो राधे मां के पास 17 और संपत्तियों हैं, जिनकी जानकारी सामने आई है। ये संपत्तियां राधे मां ने पिछले 5 साल में हासिल की है। आरोप है कि महाराष्ट्र के अलावा भी कई राज्यों में राधे मां ने बेनामी नामों पर संपत्तियां बनाई हैं।

सूत्रों की मानें तो आयकर विभाग से बचने के लिए राधे मां ने एक भी संपत्ति अपने नाम पर नहीं रखी है। राधे मां से जब आईबीएन 7 ने उनकी बेनामी संपत्तियों और हजार करोड़ की प्रॉपर्टी के बारे में पूछा तो राधे मां ने दलील दी कि मेरे पास कोई बैंक बैलेंस नहीं है। जो भी पैसे चढ़ावे में आते हैं, उसे वो बांट देती हैं।

आसाराम की संपत्ति

नाबालिग से रेप के मामले में जेल में बंद आसाराम बाबा के पास भी अकूत संपत्ति है। आरोप है कि देश के कई शहरों में आसाराम के आश्रम हैं जो कि काफी बड़ी जमीन पर स्थित है। सिर्फ गुजरात में 45 जगहों पर उनकी जमीनें हैं। इसके अलावा राजस्थान, मध्यप्रदेश, आंध्र प्रदेश महाराष्ट्र समेत कई जिलों में उनकी तैंतीस संपत्ति है।

सूरत पुलिस की जांच में ये बात सामने आई थी आसाराम की संपत्ति करीब नौ हजार से लेकर दस हजार करोड़ है। आसाराम पर लगे आरोपों की जांच के बाद सूरत पुलिस के उस वक्त के कमिश्नर राकेश अस्थाना के मुताबिक आसाराम के आश्रमों की कुल संपति नौ से दस हजार करोड़ रुपये हैं। इन संपत्तियों में बैंक बैलेंस, शेयरों में निवेश आदि हैं। जनवरी 2014 में आसाराम के आश्रम पर हुई छापेमारी में 4 थैलों में भरकर दस्तावेज ले जाए गए थे ।

संत रामपाल की संपत्ति

हिसार के सतलोक आश्रम के स्वयंभू संत रामपाल में संपत्ति के मामले में किसी से कम नही हैं! उनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने हाईकोर्ट को उनकी संपत्ति का ब्योरा पेश किया था। उस वक्त हरियाणा सरकार ने बताया था कि रामपाल की गिरफ्तारी के बाद उनके आश्रम से 55 लाख बरामद हुए थे। आपको याद होगा कि रामपाल एक विशेष तरह की सिंहासन नुमा कुर्सी पर बैठते थे। इसके अलावा उनके आसपास सुरक्षा का एक बड़ा घेरा भी रहता था।

सारथी बाबा की संपत्ति

ओडीशा के खुद को भगवान बतानेवाले सारथी बाबा को एक लड़की के साथ होटल में रंगरेलियां मनाने का आरोप लगा और बाद मे वो गिरफ्तार भी हुए। उनक पास भी अकूत संपत्ति की बात आई थी।सूत्रों के मुताबिक सारथी बाबा समेत कई बाबाओं पर कालेधन पर बनी एसआईटी की नजर है और उनके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

दिल्ली के अनेक और विवादित इच्छाधारी बाबा के तार सेक्स रैकेट से जुड़े थे। आरोप लगने के बाद उनकी भी गिरफ्तारी हुई थी। सवाल यही उठता है कि जिस देश में संत न को कहा सीकरी से काम कहा गया हो, जिस देश में ये माना जाता है संत सांसारिक भोग विलास से दूर धर्म और अध्यात्म के कामों में लगते हैं। कंदराओं औरक गुफाओं में रहकर भक्ति भाव और मानवता की सेवा करते हैं उसी देश में इस तरह के संतों के सामने आने के बाद क्या उनको संत कहना भी उचित होगा।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज