कई ताकतवर देशों की सीमाएं लांघकर भारत पहुंचेगा राफेल, पाकिस्तान की बढ़ी बेचैनी

कई ताकतवर देशों की सीमाएं लांघकर भारत पहुंचेगा राफेल, पाकिस्तान की बढ़ी बेचैनी
फ्रांस से भारत के लिए निकले 5 राफेल, 29 को पहुंचेंगे भारत. प्रतीकात्मक तस्वीर.

भारत (India) तक पहुंचने के लिए राफेल (Rafale Fighter Jet) को 7000 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी. इस दूरी को पूरी करते वक़्त एक एयर रिफ्यूलर भी फाइटर के साथ होगा जो की बीच-बीच में राफेल को रीफ्यूल करेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के सबसे ताकतवर फाइटर जेट का इंतजार अब खत्म होने वाला है. भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाने और दुश्मनों की नींद उड़ाने के लिए 5 राफेल फाइटर जेट (Rafale Fighter Jet) ने फ्रांस से उड़ान भर दी है. इन पांचों फाइटर प्लेन को सात भारतीय पायलट उड़ाकर अंबाला एयरबेस ला रहे हैं. बता दें कि फ्रांस से निकले फाइटर जेट 5-6 देशों के ऊपर से होकर गुजरेंगे. फ्रांस से भारत आते समय पांचों फाइटर प्लेन (Fighter Jet) को 28 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के अल डाफरा एयरबेस पर उतारा जाएगा.

साल 2016 में भारत और फ्रांस के बीच हुए 36 राफेल फाइटर जेट के करार के बाद 5 राफेल अब 2020 मे भारत की जमीन पर क़दम रखने जा रहे हैं. 36 राफेल में से पहली 5 विमानों की पहली खेप ने भारत के लिए फ्रांस के मेरिग्नाक बेस से उड़ान भर दी है. मेरिग्नाक में राफेल बनाने वाली कंपनी,‌ दसॉ (दसॉल्ट) ने ही इन फाइटर जेट का निर्माण किया है. बता दें कि भारत के समय के मुताबिक आज दोपहर 12 के आसपास राफेल ने उड़ान भरी थी. इस मौके पर फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ भी मौजूद थे, जिन्होंने उड़ान से ठीक पहले भारतीय पायलटों से मुलाक़ात की और भारत सरकार की तरफ से कोरोना काल में समय पर डिलीवरी देने पर उनका धन्यवाद किया.





भारत तक पहुंचने के लिए राफेल को 7000 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी. इस दूरी को पूरी करते वक़्त एक एयर रिफ्यूलर भी फाइटर के साथ होगा जो की बीच-बीच में राफेल को रीफ्यूल करेगा. ये पांचों विमान यूएई में अबूधाबी के करीब अल-दफ्रा फ्रेंच एयरबेस पर हॉल्ट करेंगे. जहां उनका फ़्लाइट मेंटिनंस होगा और फिर वो भारत के लिए रवाना होंगे. इस दौरान राफेल ​जेट कई देशों की सीमा को पार करेंगे. फ्रांस से भारत के बीच में इटली, तुर्की, इराक, ईरान और पाकिस्तान आता है. राफेल क्योंकि यूएई में उतर रहा है तो यहां से उसके रूट में बदलाव किया जा सकता है.
इसे भी पढ़ें :- भारत आने के बाद ही काम में लग जाएगा राफेल, जानें सेना को कैसे मजबूत करेगा ये लड़ाकू विमान?

5 में से दो ट्रेनर एयरक्राफ्ट हैं, 3 लड़ाकू विमान हैं
भारतीय दूतावास से प्रेस रिलीज में बताया गया कि 10 एयरक्राफ्ट तयशुदा समय के हिसाब से तैयार हैं, जिनमें से 5 एयरक्रफ्ट को ट्रेनिंग के लिए फ्रांस में ही रखा गया है. जबकि 5 राफेल को भारत भेजा जा रहा है. यही नहीं भारतीय वायुसेना के अगले बैच के पायलटों, ग्राउंड स्टाफ, मेंटिनेंस की ट्रेनिंग भी फ्रांस में होगी जो कि नौ महीने तक चलेगी. भारत पहुंच रहे इन 5 विमानों में दो ट्रेनर एयरक्राफ्ट हैं और तीन लड़ाकू विमान हैं. 2021 के अंत तक सभी 36 राफेल की डिलीवरी हो जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading