अपना शहर चुनें

States

Republic Day 2021: राजपथ पर राफेल ने दिखाया वर्टिकल चार्ली फॉर्मेशन, जानें क्या है इसकी खासियत?

आसमान में राफेल का जलवा
आसमान में राफेल का जलवा

Rafale on Rajpath: राजपथ पर इस बार राफेल के वर्टिकल चार्ली फार्मेशन (Vertical Charlie formation) के साथ फ्लाईपास्ट खत्म हुआ. आखिर इस फॉर्मेशन में क्या खास है? आइए इसे समझने की कोशिश करते हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2021, 12:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इस बार राजपथ पर गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) का समारोह बेहद खास रहा. भारतीय सेना ने हमेशा की तरह इस बार भी अपनी ताकत दिखायी, लेकिन हर किसी की निगाहें इस बार नीले आसमान पर टिकी रहीं. वजह है राफेल (Rafale) लड़ाकू विमानों का जलवा. एक ऐसा पल जिसने हर किसी को जोश और जूनन से भर दिया. राफेल को पिछले साल सितंबर में फ्रांस से खरीदा गया था. राफेल के साथ-साथ मिग-29 फाइटर ने भी राजपथ पर अपने कारनामे दिखाए. इस बार का फ्लाईपास्ट राफेल के वर्टिकल चार्ली फार्मेशन (Vertical Charlie formation) से खत्म हुआ. आखिर इस फॉर्मेशन में क्या खास है? आइए इसे समझने की कोशिश करते हैं.

900 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से राफेल ने वर्टिकल चार्ली फॉर्मेशन दिखाया. ये सारे करतब दिखा रहे थे पायलट ग्रुप कैप्टन हरकिरत सिंह और कमांडिंग ऑफिसर स्‍क्‍वाड्रन लीडर किसलयकांत. ये नज़ारा देखने लायक था.
क्या है वर्टिकल चार्ली फॉर्मेशन?लड़ाकू विमान आसमान में दुश्मनों को करारा जवाब देने के लिए जाने जाते हैं. दुश्मनों पर हमला करने के साथ-साथ वो खुद को बचाने की भी कोशिश करते हैं. और ऐसे ऑपरेशन को ही कामयाब माना जाता है. हर पायलट अपने विमान को बचाने के लिए अलग-अलग करतब करते हैं जिससे कि दुश्मन उन पर सीधा हमला न कर दे. इन्हीं में से एक ‘वर्टिकल चार्ली’ फॉर्मेशन है.क्या है खास इसमें?इस करतब के दौरान विमान पहले कम ऊंचाई पर उड़ान भरता है, सीधे ऊपर जाता है और उसके बाद कलाबाजी खाते हुए एक ऊंचाई पर स्थिर हो जाता है. लेकिन इस दौरान पायलट चकमा देने के लिए हर पल अपनी पोजिशन बदलता रहता है. ऐसे कारनामों से दुश्मन के होश उड़ जाते हैं.

ये भी पढ़ें:- PICS: लद्दाख में माइनस 25 डिग्री तापमान में ITBP जवानों ने मनाया गणतंत्र दिवस



बता दें कि फ्रांस और भारत के बीच राफेल विमानों के लिए 60,000 करोड़ रुपये की डील हुई है. इसके तहत भारत को 36 राफेल लड़ाकू विमान मिलेंगे. फ्रांस से सौदे के तहत राफेल का आखिरी विमान 2022 के अंत तक मिलने की संभावना है. भारत को राफेल की दूसरी खेप पिछले साल नवंबर में मिली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज