लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव 2019: जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के बीच 'दोस्ताना' गठबंधन के मायने

News18Hindi
Updated: March 21, 2019, 2:33 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के बीच 'दोस्ताना' गठबंधन के मायने
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (फाइल फोटो)

सूत्रों के मुताबिक, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अधिकांश नेता इस निर्णय से संतुष्ट थे, वहीं कांग्रेस के नेता भी नाखुश लग रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2019, 2:33 PM IST
  • Share this:
आकाश हसन
लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस ने बुधवार को गठबंधन का ऐलान कर दिया. दोनों दलों ने इसे 'धर्मनिरपेक्ष शक्तियों को मजबूत' करने के लिए 'राष्ट्रीय हित' का कदम बताया.

जम्मू-कश्मीर में लोकसभा की छह सीटे हैं. तीन कश्मीर घाटी, 2 जम्मू क्षेत्र और 1 लद्दाख में है. जम्मू में नेशनल कांफ्रेंस 2 सीटों पर कांग्रेस की मदद करेगी, वहीं कांग्रेस सिर्फ श्रीनगर सीट पर नेशनल कांफ्रेंस की मदद करेगी. वहीं लद्दाख सीट पर अभी फैसला होना बाकी है.

यह भी पढ़ें:  ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में शामिल हुए 'चड्डी' और 'फंटूश' जैसे शब्द

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद और नेशनल कांफ्रेंस के संरक्षक फारूक अब्दुल्ला ने संयुक्त रूप से मीडिया को बताया कि कांग्रेस जम्मू और उधमपुर लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं नेशनल कांफ्रेंस श्रीनगर से लड़ेगी. पार्टियों ने कहा कि उनके पास दो सीटों पर 'दोस्ताना प्रतियोगिता' होगी.

यह भी पढ़ें: होली है! इन मजेदार जोक्स और मीम्स के साथ होली मना रहा है ट्विटर

पार्टी सूत्रों ने कहा कि बातचीत के दौरान, नेशनल कांफ्रेंस घाटी में तीनों सीटों पर लड़ने के लिए एनसी अड़ी रही. हालांकि, कांग्रेस तीनों क्षेत्रों से समान हिस्सेदारी की मांग कर रही थी. नेशनल कांफ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष नासिर असलम ने News18 को बताया, 'जब हमने राष्ट्र के बड़े हित में कांग्रेस के साथ गठबंधन किया, तो हम पार्टी के हितों की अनदेखी नहीं कर सकते थे. जम्मू में कांग्रेस का समर्थन करते हुए, हम अनंतनाग और बारामूला में एक-दूसरे से लड़ेंगे.'यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी सेना ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, एक जवान शहीद

नेशनल कॉन्फ्रेंस के अधिकांश नेता इस निर्णय से संतुष्ट थे, वहीं कांग्रेस के नेता भी नाखुश लग रहे थे. नाम न छापने की शर्त पर एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने News18 से कहा, 'अगर नेशनल कांफ्रेंस धर्मनिरपेक्ष ताकतों को मजबूत करने के लिए लड़ रहा है, तो उन्हें हमें बराबर हिस्सा देना चाहिए था. ऐसा लगता है कि हमारी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस के दबाव में झुक गई है.'

यह भी पढ़ें:  पाकिस्तान: टीचर ने पार्टी में महिलाओं को बुलाया तो छात्र ने चाकू घोंपकर ले ली जान

कांग्रेस के पूर्व विधायक गुलजार अहमद ने कहते हैं, 'हम नेशनल कांफ्रेंस की मांगों पर सहमत नहीं थे, क्योंकि हमारे लिए हमारे कार्यकर्ताओं को एनसी को वोट देने के लिए कहना आसान नहीं है. हमारे अनुभव को देखते हुए वोट ट्रांसफर नहीं होता है, बल्कि यह उन कार्यकर्ताओं की संख्या को प्रभावित करता है जो पार्टी के पास पहले से थे.'

यह भी पढ़ें:  आज ही के दिन 1977 में हुई थी आपातकाल खत्म करने की घोषणा

कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि पार्टी में इस फैसले पर अलग-अलग राय है. गांधी परिवार के करीबी माने जा रहे जीए मीर राज्य में कांग्रेस का नेतृत्व कर रहे हैं. कुछ नेताओं का पार्टी के राज्य नेतृत्व भी विवाद है. एक वरिष्ठ नेता ने कहा, 'बावजूद इसके कि मीर राज्य कांग्रेस के प्रमुख हैं, हमारे आधे कैडर गुलाम नबी आजाद को रिपोर्ट करना पसंद करते हैं.'

यह भी पढ़ें:  क्राइस्टचर्च अटैक: न्यूजीलैंड में बैन की गईं मिलिट्री स्टाइल की सभी बंदूक

कांग्रेस में फिलहाल एक और आंतरिक संकट है. पार्टी के सूत्रों ने कहा कि वरिष्ठ नेता जिन्हें कश्मीर में लोकसभा सीटों के लिए संभावित उम्मीदवार के रूप में देखा जाता है, वे चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं.

यह भी पढ़ें:  ऐ देश मेरे, तेरा मैं भी चौकीदारः BJP ने जारी किया कैम्पेन वीडियो

एक पार्टी के नेता ने कहा कि दक्षिण कश्मीर में, जीए मीर हमारे संभावित उम्मीदवार के रूप में हैं, लेकिन वह अभी चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं हैं और एक जूनियर नेता को मैदान में उतारना चाहते हैं.

यह भी पढ़ें:  होली के रंग में रंगा Google, कुछ यूं कहा- Happy Holi

कश्मीर घाटी में, आम चुनाव में कांग्रेस को खराब रिकॉर्ड का सामना करना पड़ा है. कश्मीर से पार्टी का आखिरी लोकसभा सदस्य कांग्रेस के प्रमुख मुफ्ती मोहम्मद सईद थे. उन्होंने साल 1998 में अनंतनाग सीट से जीत दर्ज की थी. तब से जम्मू-कश्मीर से एक भी कांग्रेस सांसद नहीं है.

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने देश को दी होली की शुभकामनाएं

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Jammu से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 21, 2019, 1:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर