लाइव टीवी

मानहानि मामले की सुनवाई के लिए अहमदाबाद पहुंचे राहुल गांधी, अदालत ने दी जमानत

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 5:19 PM IST
मानहानि मामले की सुनवाई के लिए अहमदाबाद पहुंचे राहुल गांधी, अदालत ने दी जमानत
मजिस्ट्रेटों ने दोनों मामलों में आखिरी सुनवाई के दौरान 11 अक्टूबर की तारीख तय की थी, इसलिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अदालत की कार्यवाही में हिस्सा लेने के मकसद से यहां पहुंचे.

मजिस्ट्रेटों ने दोनों मामलों में आखिरी सुनवाई के दौरान 11 अक्टूबर की तारीख तय की थी, इसलिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अदालत की कार्यवाही में हिस्सा लेने के मकसद से यहां पहुंचे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 5:19 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी  (Rahul Gandhi) आपराधिक मानहानि से संबंधित दो मामलों में स्थानीय अदालतों में पेश होने शुक्रवार को अहमदाबाद (Ahmedabad) पहुंचे. शहर की अदालतों में राहुल के खिलाफ आपराधिक मानहानि के मामले दायर किये गये हैं.

अहमदाबाद हवाईअड्डे पर पहुंचने के बाद वह प्रदेश कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के लिये सीधे शहर के सर्किट हाउस पहुंचे. दिन में करीब ढाई बजे वह शहर के घी कांटा इलाका स्थित मेट्रोपोलिटन अदालत परिसर पहुंचे. सुनवाई के दौरान अदालत में राहुल गांधी ने अमित शाह को हत्या का आरोपी बताने वाले मानहानि मामले में खुद को निर्दोष बताया.

राहुल के खिलाफ आपराधिक मानहानि का एक मामला केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को ‘हत्या का आरोपी’ बताने के कारण दायर किया गया था.  जबलपुर में एक चुनावी रैली के दौरान गृह मंत्री अमित शाह को 'हत्या के आरोपी' कहने के लिए मानहानि के मामले का सामना कर रहे राहुल की जमानत याचिका गुजरात की एक अदालत ने स्वीकार कर ली. इस मामले में अगली सुनवाई 7 दिसंबर को होगी.

अमित शाह पर घोटाले का आरोप

आपराधिक मानहानि का अन्य मामला राहुल के उस दावे से संबंधित है जिसमें उन्होंने अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक पर 2016 में नोटबंदी के दौरान पांच दिन के अंदर 750 करोड़ की अमान्य मुद्रा को वैध मुद्रा से बदलने के घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था. शाह इस बैंक के निदेशक हैं.

जुलाई में भी कांग्रेस नेता एडीसी बैंक की ओर से दायर मानहानि के मामले में यहां की मजिस्ट्रेट अदालत में पेश हुए थे, जिसमें उन्होंने खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया था.

जबलपुर की एक चुनावी रैली में शाह को ‘‘हत्या का आरोपी’’ कहने के लिये भाजपा पार्षद कृष्णवदन ब्रह्मभट्ट की ओर से दायर मानहानि के मामले में एक अन्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की ओर से जारी समन पर राहुल मई में पेश हुए थे.
Loading...

मोदी उपनाम पर की थी टिप्पणी
शिकायतकर्ता ने कहा कि 2015 में सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले में शाह को बरी कर दिया गया था, लेकिन राहुल ने शाह पर मिथ्या आरोप लगाये.

राहुल इस मामले में पहली बार शुक्रवार को अदालत में पेश हुए. मानहानि के एक और मामले में बृहस्पतिवार को वह सूरत की अदालत में पेश हुए थे और खुद को बेकसूर बताया.

यह मामला अप्रैल में लोकसभा चुनाव प्रचार से पहले एक चुनावी रैली के दौरान दिये गये उनके बयान से संबंधित था जिसमें उन्होंने कहा था, ‘‘आखिर सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है?’’ इस मामले में शिकायतकर्ता सूरत-पश्चिम से भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी हैं.

यह भी पढ़ें:  सीएम योगी ने क्यों कहा ‘देश में संकट आएगा तो राहुल गांधी खड़े नहीं होंगे'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 4:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...