Home /News /nation /

केंद्र सरकार पर राहुल गांधी का निशाना, बोले-'अब चीन की सच्चाई को भी स्वीकार कर लेना चाहिए'

केंद्र सरकार पर राहुल गांधी का निशाना, बोले-'अब चीन की सच्चाई को भी स्वीकार कर लेना चाहिए'

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध को लेकर राहुल गांधी ने पहले भी सरकार को घेरा है.(फाइल फोटो)

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध को लेकर राहुल गांधी ने पहले भी सरकार को घेरा है.(फाइल फोटो)

Agricultural Laws, Rahul Gandhi, PM Narendra Modi, China: पिछले एक साल से ज्यादा समय से किसानों के आंदोलन (Kisan Andolan) के बाद अब जब शुक्रवार को पीएम मोदी (PM Modi) ने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा की तो विपक्ष ने इसे सरकार की हार बताया. राहुल गांधी ने कहा कि जिस तरह से कृषि कानूनों को वापस लिया है उसी तरह से अब सरकार को भारत की जमीन पर चीन के कब्जे वाली बात को भी स्वीकार कर लेना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी(PM Narendra Modi) की तरफ से तीन कृषि कानूनों (Three Agricultural Laws) को वापस लेने की घोषणा के बाद विपक्ष इसे सरकार की हार और किसानों की जीत बताने में लगी हुई है. इस बीच शनिवार को पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कृषि कानूनों के निरस्त किए जाने के बाद चीन को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि जिस तरह से सरकार ने कृषि कानूनों (Krishi kanoon) को वापस ले लिया है उसी तरह अब चीन (China) के कब्जे वाली बात को भी स्वीकार कर लेना चाहिए.

    कांग्रेस चीन के साथ सीमा पर पिछले कई महीने से बने हुए तनाव की स्थिति पर सरकार को घेरती रही है. मुख्य विपक्षी दल ने सरकार से इस मुद्दे पर कई सवाल भी किए. कांग्रेस ने सरकार पर चीन के साथ भारत की क्षेत्रीय अखंडता से समझौता करने का भी आरोप लगाया है, लेकिन सरकार ने हमेशा ही विपक्ष के इन आरोपों से इनकार किया है.

    कृषि कानूनों को वापस लेना सरकार की हार
    पिछले एक साल से ज्यादा समय से किसानों के आंदोलन के बाद अब जब शुक्रवार को पीएम मोदी ने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा की तो विपक्ष ने इसे सरकार की हार बताया. राहुल गांधी ने कहा कि जिस तरह से कृषि कानूनों को वापस लिया है उसी तरह से अब सरकार को भारत की जमीन पर चीन के कब्जे वाली बात को भी स्वीकार कर लेना चाहिए. यह बात उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कही.

    दोनों देशों की बीच जल्द होगी 14वें दौर की बात
    राहुल गांधी पहले भी पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा की स्थिति को लेकर केंद्र सरकार से सवाल करते रहे हैं. भारत और चीन दोनों ही सीमा पर हालात को नॉर्मल करने के लिए अगले दौर की सैन्य वार्ता करने वाले हैं. इससे पहले दोनों ही देशों के बीच कुल 13 बार सैन्य वार्ता हो चुकी है जिसका कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है.

    दोनों तरफ से 50,000 सैनिकों की तैनाती
    बता दें कि पिछले साल पांच मई को पैंगोंग झील के क्षेत्र में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में दोनों ही देशों की सेनाओं के बीच हालात पूर्वी लद्दाख में गतिरोध बढ़ गया था. दोनों ही तरफ से वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास धीरे धीरे हजारों सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी गई है. सूत्रों की मानें तो दोनों ही देशों की तरफ से एलएसी में करीब 50,000 से 60,000 सैनिकों की तैनाती की गई है.

    Tags: China, India-China LAC dispute, Rahul gandhi, Three Agricultural Laws

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर