होम /न्यूज /राष्ट्र /CWC बैठक में राहुल गांधी ने रखा रोडमैप, कहा- नए वोटर्स का जीतना होगा भरोसा

CWC बैठक में राहुल गांधी ने रखा रोडमैप, कहा- नए वोटर्स का जीतना होगा भरोसा

कांग्रेस अध्यक्ष ने भारत की आवाज के तौर पर कांग्रेस की भूमिका के बारे में याद दिलाया और आरोप लगाया कि बीजेपी देश की विभिन्न संस्थाओं, दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और गरीबों पर हमले कर रही है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने भारत की आवाज के तौर पर कांग्रेस की भूमिका के बारे में याद दिलाया और आरोप लगाया कि बीजेपी देश की विभिन्न संस्थाओं, दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और गरीबों पर हमले कर रही है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने भारत की आवाज के तौर पर कांग्रेस की भूमिका के बारे में याद दिलाया और आरोप लगाया कि बीजेपी देश की विभ ...अधिक पढ़ें

    पार्लियामेंट एनेक्सी में रविवार को हुई कांग्रेस कार्यसमिति (CWC)की अहम बैठक में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने नेताओं और कार्यकर्ताओं के सामने रोडमैप रखा. राहुल गांधी ने कहा कि यह CWC अतीत, वर्तमान और भविष्य के बीच का पुल है. राहुल ने कहा कि अगर हमें लड़ाई जीतनी है, तो नए वोटर्स का भरोसा जीतना होगा.

    मोदी पर बरसे मनमोहन, कहा- जुमलों से डबल नहीं होगी किसानों की इनकम

    CWC की मीटिंग में बतौर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, 'आने वाले चुनावों में कांग्रेस के वोट बेस को बढ़ाना मौजूदा वक्त में हमारा सबसे बड़ा काम है. हर संसदीय क्षेत्र में हमें उन लोगों की पहचान करनी होगी, जो कांग्रेस को वोट नहीं करते. इसके बाद उनतक पहुंचने के लिए हमें आगे की रणनीति बनानी होगी, ताकि ऐसे वोटर्स का भरोसा जीत सके.

    राहुल गांधी ने कहा कि हमारी पूरी कोशिश है कि CWC में युवाओं के जोश और पुराने लोगों के अनुभव में बैलेंस बना रहे. CWC को बनाने के पीछे मुख्य मकसद ये है कि संगठन को समावेशी, गतिशील और विविध बनाया जाए, जिसमें नई और पुरानी पीढ़ी दोनों का प्रतिनिधित्व हो.

     क्या कहता है राहुल गांधी का ‘अविश्वास प्रस्ताव’ वाला भाषण?






    कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'CWC हर भारतीय नागरिक की आवाज़ है. यह अलग-अलग तबके, शोषित-पीड़ित और कमजोर लोगों की आवाज़ है. हमारी सामूहिक चुनौती है कि कैसे CWC को उस स्तर तक पहुंचाया जाए.'



    राहुल गांधी ने कहा, 'वैसे CWC तब से काम कर रही है, जब आजादी के लिए आंदोलन चल रहा था. यह एक ऐसा फोरम है, जहां भारत खुद को अभिव्यक्त करता है, बहस करता है और प्रतियोगिता कर सकता है. ऐसा फोरम है, जहां आप आइडिया भी दे सकते हैं.'



    राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यसमिति की पहली बैठक की अध्यक्षता की और कहा कि यह अनुभव और जोश के समावेश वाली इकाई है. कांग्रेस अध्यक्ष ने भारत की आवाज के तौर पर कांग्रेस की भूमिका और वर्तमान व भविष्य की इसकी जिम्मेदारी के बारे में भी याद दिलाया और आरोप लगाया कि बीजेपी देश की विभिन्न संस्थाओं, दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और गरीबों पर हमले कर रही है.

    राहुल गांधी ने कहा, 'नवगठित कार्यसमिति अनुभव और जोश का समावेश है और यह अतीत, वर्तमान और भविष्य के बीच सेतु का काम करेगी.

    पढ़ें- मोदी पर बरसे मनमोहन, कहा- जुमलों से डबल नहीं होगी किसानों की इनकम

    कांग्रेस अध्यक्ष को इस दौरान आगामी चुनावों में गठबंधन के सवाल से भी दो-चार होना पड़ा. बैठक में जहां यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सभी विपक्षी दलों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से मुकाबले के लिए अपनी निजी महत्वाकांक्षाएं त्याग कर एकजुट होने का आह्वान किया है. वहीं सचिन पायलट, शक्तिसिंह गोहिल और रमेश चेन्नीथला जैसी पार्टी के प्रदेश प्रभारियों ने भी रणनीतिक साझेदारी की वकालत की, लेकिन साथ ही कहा कि इस गठबंधन का चेहरा राहुल गांधी ही हों.

    वहीं, सीडब्ल्यू की इस बैठक में शरीक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने संबोधन में कांग्रेस अध्यक्ष को भरोसा दिलाया कि वह और दूसरे सभी कांग्रेसजन भारत के सामाजिक सद्भाव और आर्थिक विकास को बहाल करने के मुश्किल भरे काम को पूरा करने में उनके साथ हैं. सिंह ने कहा , 'मैं राहुल जी को विश्वास दिलाता हूं कि हम सामाजिक सद्भाव और आर्थिक विकास को बहाल करने के मुश्किल भरे काम को पूरा करने उनका पूरा सहयोग करेंगे.'

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें