लाइव टीवी

राहुल गांधी ने 1 ही ट्वीट में लिख दिए हैं देश की 23 भाषाओं के नाम, जानिए क्यों?

News18Hindi
Updated: September 16, 2019, 7:41 PM IST
राहुल गांधी ने 1 ही ट्वीट में लिख दिए हैं देश की 23 भाषाओं के नाम, जानिए क्यों?
राहुल गांधी ने एक ही ट्वीट में 23 भाषाओं के नाम लिख दिए हैं (फाइल फोटो)

कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने संविधान की 8वीं अनुसूची (Eighth Schedule) में मौजूद सभी 22 भाषाओं और अंग्रेजी को नाम भारत के तिरंगे (Tricolour) के साथ लिखा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 16, 2019, 7:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने संविधान की आठवीं अनुसूची (Eighth Schedule) में मौजूद सभी 22 भाषाओं और अंग्रेजी को नाम भारत के तिरंगे (Tricolour) के साथ लिखा है. इस तरह से कांग्रेस नेता ने एक देश, एक भाषा (One Nation, One Language) के फॉर्मूले पर अपने पक्ष को साफ किया है.

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इसके अलावा अपने ट्वीट में यह भी लिखा है कि भारत की कई सारी भाषाएं, भारत की कमजोरी नहीं हैं.

इस तरह से राहुल गांधी ने साधा केंद्रीय गृहमंत्री पर निशाना
राहुल गांधी का यह ट्वीट केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के हिंदी दिवस पर दिए उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी दिवस (Hindi Divas) के मौके पर कहा था, "हिंदी हमारी राजभाषा है. हमारे यहां कई भाषाए में बोली जाती हैं. लेकिन एक भाषा ऐसी होनी चाहिए जो दुनिया में देश का नाम बुलंद करे और पहचान को आगे बढ़ाए और ये सभी खूबियां हिंदी में हैं."

राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में हर भाषा के नाम से पहले भाषा भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा बनाते हुए लिखा है, "ओड़िया, मराठी, कन्नड़, हिंदी, तमिल, अंग्रेजी, गुजराती, बंगाली, उर्दू, पंजाबी, कोंकणी, मलयालम, तेलुगू, असमिया, बोडो, डोगरी, मैथिली, नेपाली, संस्कृत, कश्मीरी, सिंधी, मणिपुरी.

भारत की तमाम भाषाएं भारत की कमजोरी नहीं हैं."



ओवैसी, स्टालिन और कमल हासन भी जता चुके हैं विरोध
केंद्रीय गृहमंत्री के इस बयान के बाद दक्षिण भारत से खासकर तमिलनाडु से तीखी प्रतिक्रिया आई थी. एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी और डीएमके चीफ एमके स्टालिन ने इसकी आलोचना की थी. इसके बाद नेता से राजनेता बने कमल हासन ने भी एक वीडियो ट्वीट किया था, जिसमें 'एक देश, एक भाषा के फॉर्मूले' की आलोचना की गई थी.

एक्टर कमल हासन (Kamal Hassan) ने ट्विटर (Twitter) पर हिंदी को लेकर एक वीडियो जारी किया है. ट्विटर पर जारी किए इस वीडियो में कमल हासन ने कहा है, "कोई शाह, सुल्तान या सम्राट अचानक वादा नहीं तोड़ सकता है. 1950 में जब भारत गणतंत्र बना तो ये वादा किया गया था कि हर क्षेत्र की भाषा और कल्चर का सम्मान किया जाएगा और उन्हें सुरक्षित रखा जाएगा."

यह भी पढ़ें: हिंदी को लेकर कमल हासन की धमकी, कहा- जल्लीकट्टू से बड़ी होगी तमिल भाषा के लिए लड़ाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 16, 2019, 7:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...