राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज, कहा-गुस्से में हैं किसान, यह एक खतरनाक मिसाल

राहुल गांधी ने कहा-पीएम मोदी, पंजाब के किसान गुस्से में हैं.
राहुल गांधी ने कहा-पीएम मोदी, पंजाब के किसान गुस्से में हैं.

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा ​है कि किसान गुस्से में हैं और प्रधानमंत्री मोदी को किसानों के पास जाकर उनकी समस्या सुननी चाहिए और उनकी मांग को पूरा करना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 5:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि कानून को लेकर पंजाब में किसानों का विरोध प्रदर्शन अब उग्र रूप लेने लगा है. कानून के विरोध में पंजाब के किसान लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं और सरकार से इसे वापस लेने की मांग कर रहे हैं. कृषि कानून भले ही संसद के दोनों सदनों से पास हो चुका हो लेकिन विपक्ष लगातार सरकार को इस मामले में घेरने में लगी हुई है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कानून के विरोध में एक बार फिर सरकार पर हमला बोला है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगाह किया है कि किसान काफी गुस्से में हैं. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा ​है कि किसान गुस्से में हैं और प्रधानमंत्री मोदी को किसानों के पास जाकर उनकी समस्या सुननी चाहिए और उनकी मांगों को पूरा करना चाहिए.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि कल पंजाब में जो हुआ वह दुखद है. प्रधानमंत्री के प्रति पंजा​ब के किसानों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है. यह एक खतरनाक मिसाल है और देश के लिए अच्छा नहीं है. प्रधानमंत्री को उनके पास जाना चाहिए, उनकी बात सुननी चाहिए और उन्हें तुरंत राहत देनी चाहिए.

Congress, Rahul Gandhi, Agricultural Law, Punjab, Farmers



राहुल ने गुरुवार को किए ट्वीट में पीएम को महंगाई से लेकर किसान कानूनों तक के मुद्दों पर घेरा. उन्होंने लिखा 'आम जन पर लगातार होते वार, अब महंगाई भी हुई हद से पार. काले क़ानूनों से किसान लाचार, छीना उनका सम्मान व अधिकार. हाथ पर हाथ धरे मोदी सरकार, करे सिर्फ़ पूंजीपति मित्रों का बेड़ा पार.'


इसे भी पढ़ें :- राहुल गांधी बोले- किसानों के लिए मौत का फरमान है कृषि कानून, मर चुका है लोकतंत्र

ये हैं नए कृषि कानून
हाल ही में संपन्न मानसून सत्र में संसद ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को इन विधेयकों को मंजूरी प्रदान कर दी, जिसके बाद ये कानून बन गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज