जिन राज्यों में चुनाव होने हैं, वहां के नेताओं से मिलेंगे राहुल गांधी

इससे पहले राहुल ने आम चुनाव में हार के बाद 25 मई को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की थी और तब से वह किसी भी पार्टी नेता से मुलाकात नहीं कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 11:41 PM IST
जिन राज्यों में चुनाव होने हैं, वहां के नेताओं से मिलेंगे राहुल गांधी
राहुल गांधी उन राज्यों के पार्टी नेताओं से चुनाव की तैयारियों पर चर्चा करने के लिए मिलेंगे, जहां आगामी महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 11:41 PM IST
देश में हाल ही में संपन्न आम चुनावों में पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के फैसले पर अडिग राहुल गांधी उन राज्यों के पार्टी नेताओं से चुनाव की तैयारियों पर चर्चा करने के लिए मिलेंगे, जहां आगामी महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं. सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी के महाराष्ट्र, हरियाणा और दिल्ली के पार्टी नेताओं से मिलने की संभावना है.

इससे पहले राहुल ने आम चुनाव में हार के बाद 25 मई को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की थी और तब से वह किसी भी पार्टी नेता से मुलाकात नहीं कर रहे हैं. हालांकि, सीडब्ल्यूसी ने उनके इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया था और उनसे सभी स्तर पर पार्टी के पुनर्गठन के लिए कहा था. राहुल लोगों से भी मिलने से बच रहे हैं और उन्होंने अपनी बहन तथा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से उनकी ओर से बातचीत करने के लिए कहा था.

सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राज्य के पार्टी नेताओं से सोमवार को मुलाकात की थी और बुधवार को वह महाराष्ट्र के नेताओं से मिलेंगे. राहुल से महाराष्ट्र मामलों के कांग्रेस प्रभारी महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्य के लिए प्रभारी कांग्रेस सचिवों तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मुलाकात करेंगे और राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की तैयारियों के बारे में चर्चा करेंगे.

गुरुवार को इन नेताओं से मिलेंग राहुल

राहुल हरियाणा के कांग्रेस के प्रभारी महासचिव गुलाम नबी आजाद और राज्य के पार्टी नेताओं से गुरुवार को मिलेंगे और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के नेताओं के साथ शुक्रवार को मिलेंगे. इस दौरान चुनाव के लिए उनकी तैयारियों और पार्टी की रणनीति तैयार करने पर चर्चा होगी.

ये भी पढ़ें: जादूगर नहीं बने, क्या कांग्रेस के लिए 'जादू' करेंगे गहलोत?

कांग्रेस में जगेगी उम्मीद की किरण
राहुल अब तक कांग्रेस प्रमुख के पद से हटने के अपने फैसले पर अड़े हुए हैं, लेकिन पार्टी तब से असमंजस की स्थिति में है क्योंकि वह नेताओं से मुलाकात नहीं कर रहे हैं. बैठकों का ताजा दौर पार्टी को उम्मीद की किरण देगा, जो लोकसभा चुनावों में अपनी अपमानजनक हार के बाद निर्देश के लिए अपने नेतृत्व की ओर देख रही है.

जारी है राहुल को समझाने की कोशिश

देश की सबसे पुरानी पार्टी ने उत्तर प्रदेश और कर्नाटक इकाई को पहले ही भंग कर चुकी है और इसी तरह का निर्णय अन्य राज्यों में भी संभवत: हो सकता है. कांग्रेस के अधिकतर नेता अपने निर्णय को बदलने के लिए राहुल को समझाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वह कथित तौर पर अध्यक्ष पद छोड़ने के अपने फैसले पर अडिग हैं और पार्टी नेताओं को विकल्प चुनने के लिए कुछ समय दिया है.

तीन राज्यों में होने हैं चुनाव

सूत्रों ने बताया कि राज्यों के नेताओं से मिलने के राहुल के फैसले से पार्टी में हर स्तर पर विश्वास बढ़ाने में मदद मिलेगी. गौरतलब है कि महाराष्ट्र और हरियाणा में इस साल के अंत में जबकि दिल्ली में अगले साल की शुरूआत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं.

ये भी पढ़ें: हार पर सलमान खुर्शीद का बयान- मोदी सुनामी में सब बह गया
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...