NEET-JEE परीक्षाओं को लेकर राहुल गांधी ने जताई चिंता, सरकार को दी ये सलाह

NEET-JEE परीक्षाओं को लेकर राहुल गांधी ने जताई चिंता, सरकार को दी ये सलाह
राहुल गांधी ने कहा, नीट-जेईई की परीक्षाओं को लेकर सभी पक्षों की बात सुने सरकार (फाइल फोटो)

नीट (NEET) और जेईई (JEE) की परीक्षाओं को लेकर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्वीट किया कि केंद्र सरकार को सभी पक्षों को सुनना चाहिए और एक स्वीकार्य समाधान ढूंढना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 7:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश से संबंधित नीट (NEET) और जेईई (JEE) की परीक्षाओं के संदर्भ में बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार को सभी पक्षों से बात कर मुद्दे का स्वीकार्य समाधान निकालना चाहिए. उन्होंने ट्वीट किया, ‘NEET-JEE के अभ्यर्थियों की चिंता अपनी सेहत और भविष्य दोनों को लेकर है. उनकी कुछ वाजिब चिंताएं हैं. कोविड-19 के संक्रमण का डर है, महामारी के दौरान परिवहन एवं ठहरने की चिंता है और असम एवं बिहार में बाढ़ है.’

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा कि केंद्र सरकार को सभी पक्षों को सुनना चाहिए और एक स्वीकार्य समाधान ढूंढना चाहिए. गौरतलब है कि शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा (मेन) और राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) तय कार्यक्रम के अनुसार सितंबर में ही आयोजित की जाएंगी.


सोनिया गांधी ने मुख्यमंत्रियों के साथ की बैठक



वहीं, कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) केंद्र सरकार पर राज्यों के बकाया GST और नीट-जेईई परीक्षा (JEE/NEET Exam) पर 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की. इस बैठक में कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी शामिल हुईं. बैठक में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति से संबंधित घोषणाएं वास्तव में हमें चिंतित कर सकती हैं क्योंकि यह हमारे लिए एक झटका है. छात्रों और परीक्षाओं की अन्य समस्याओं का भी ठीक तरह से निपटारा नहीं जा रहा है.

सभी राज्य सरकारें चलें सुप्रीम कोर्टः ममता

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममात बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा, 'मेरा सभी राज्य सरकारों से अनुरोध है कि हमें साथ मिलकर काम करना होगा. आइए हम साथ में सुप्रीम कोर्ट जाते हैं और परीक्षा को तब तक के लिए स्थगित करवा देते हैं जब तक कि स्थिति छात्रों के परीक्षा में बैठने लायक नहीं हो जाती.' ममता बनर्जी ने कहा, परीक्षाएं सितंबर में हैं. हम छात्रों के जीवन को जोखिम में क्यों डाल रहे हैं? हमने प्रधानमंत्री मोदी को इस संबंध में खत लिखा है, लेकिन अभी तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज