Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    हाथरस के पीड़ित परिवार से मुलाकात का VIDEO शेयर कर बोले राहुल: अन्याय की सच्चाई जानना जरूरी

    राहुल गांधी 3 अक्टूबर को हाथरस केस में पीड़ित परिवार से मिले थे. (Photo- Twitter/INCIndia
    राहुल गांधी 3 अक्टूबर को हाथरस केस में पीड़ित परिवार से मिले थे. (Photo- Twitter/INCIndia

    Hathras Case: राहुल गांधी और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) हाल ही में हाथरस में दलित लड़की के कथित सामूहिक बलात्कार और हत्या की घटना के बाद पीड़िता के परिवार से मिले थे.

    • Share this:
    नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Former Congress President Rahul Gandhi) ने हाथरस (Hathras) में कथित सामूहिक बलात्कार एवं और हत्या मामले (Gangrape & Murder Case) की पीड़िता के परिवार से अपनी मुलाकात का वीडियो साझा करते हुए बुधवार को कहा कि हर हिंदुस्तानी को इस अन्याय की सच्चाई जानना जरूरी है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ देखिए, हाथरस पीड़िता के परिवार को उप्र सरकार (UP Government) के कैसे-कैसे शोषण और अत्याचार का सामना करना पड़ा. उनके साथ हुए अन्याय की सच्चाई हर हिंदुस्तानी के लिए जानना बहुत ज़रूरी है.’’

    उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) हाल ही में हाथरस में दलित लड़की के कथित सामूहिक बलात्कार और हत्या की घटना के बाद पीड़िता के परिवार से मिले थे. वहां जाने के पहले प्रयास के दौरान पुलिस ने दोनों को हिरासत में लिया था.
    ये भी पढे़ें- भारतीय रेलवे इस ट्रेन में मुसाफिरों को देगा कोरोना किट, सफर से पहले हर पैसेंजर की होगी जांचराहुल गांधी ने नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अर्थशास्त्री जोसेफ स्टिगलित्ज (Noble Laurete Joseph Stilglitz) के एक कथन का उल्लेख करते हुए एक अन्य ट्वीट में कहा कि उनकी जिंदगी का मकसद भारत में सभी धर्म के लोगों को एकसाथ लाना है.

    गौरतलब है कि हाथरस जिले के एक गांव में गत 14 सितंबर को 19 वर्षीय एक दलित युवती से कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया गया था. चोटों के चलते गत मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता की मौत हो गई. इसके बाद रातोंरात उसके शव का दाह-संस्कार कर दिया गया.



    ये भी पढ़ें- हाथरस स्टिंग में खुलासा- पीड़िता ने दो बयान में नहीं कही रेप की बात

    परिवार का आरोप है कि स्थानीय पुलिस प्रशासन ने उनकी सहमति के बगैर गत बुधवार तड़के पीड़िता के शव का जबरन दाह-संस्कार कर दिया. हालांकि, प्रशासन ने इससे इनकार किया है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज