Home /News /nation /

अमृतसर ट्रेन हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता: पीयूष गोयल

अमृतसर ट्रेन हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता: पीयूष गोयल

अमृतसर में हुए इस हादसे में 61 लोगों की मौत हो गई थी. (फाइल फोटो)

अमृतसर में हुए इस हादसे में 61 लोगों की मौत हो गई थी. (फाइल फोटो)

गोयल ने कहा कि रेलवे ने छह महीने में 3479 में से 3400 मानव रहित रेलवे फाटकों को खत्म कर दिया है, इसलिए हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार नहीं ठहराना चाहिए.

    रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को कहा कि अमृतसर हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए और रेलवे ने मानव रहित रेलवे क्रासिंग को करीब-करीब समाप्त कर दिया है. गोयल ने कहा, 'हमने छह महीने में 3479 में से 3400 मानव रहित रेलवे फाटकों को समाप्त कर दिया है.'

    उन्होंने कहा कि बाकी को भी जल्द हटा दिया जाएगा. रेल मंत्री ने कहा कि अमृतसर जैसे हादसों के लिए रेलवे को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए. दशहरा के दिन अमृतसर में इस हादसे में 61 लोग एक ट्रेन की चपेट में आने से मारे गए थे.

    ये भी पढ़ें: 'अमृतसर रेल हादसा' या 'गलतियों का सिलसिला' जिसमें सब हिस्सेदार थे..

    बता दें कि इससे पहले 3 नवंबर को अमृतसर रेल हादसे की जांच कर रहे अधिकारी ने पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को क्लीन चिट देते हुए उन्हें दुर्घटना की जांच कर रहे आयोग के समक्ष पेश होने से छूट दे दी थी. जालंधर के संभागीय आयुक्त बी. पुरुषार्थ 19 अक्टूबर को हुए अमृतसर रेल हादसे की जांच कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें: अमृतसर ट्रेन हादसा: मुआवज़ा, सरकारी नौकरी और तस्वीरों में तब्दील कुछ ज़िंदगियां

    सिद्धू को क्लीन चिट देते हुए पुरुषार्थ ने कहा था कि आयोग सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू के जरिए एक पत्र में मंत्री की ओर से दिए गए जवाब से संतुष्ट है और उन्हें आयोग के समक्ष पेश होने से छूट दे दी गई है. गत 31 अक्टूबर को जांच आयोग ने सिद्धू दंपती से कहा था कि वह पेश होकर अपना बयान दर्ज कराएं.

    Tags: Amritsar, Indian railway, Piyush goyal, Punjab, Train accident

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर