महाराष्ट्र, दिल्ली, UP, MP के लिए रेलवे ने तैयार किए 2670 कोविड केयर बेड

रेलवे ने कोरोना के बढ़े मामलों के मद्देनजर ये कोच तैयार किए हैं. (तस्वीर-RailMinIndia Twitter)

रेलवे ने कोरोना के बढ़े मामलों के मद्देनजर ये कोच तैयार किए हैं. (तस्वीर-RailMinIndia Twitter)

रेल मंत्रालय ने इस संबंध में घोषणा की है कि उसने चार राज्यों के 9 स्टेशन पर कोविड केयर बेड तैनात कर दिए हैं. ये चार राज्य देश के कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी और मध्य प्रदेश हैं. रेलवे ने ये बेड इन राज्यों में कोरोना बेड की खबरों के बीच तैयार किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 5:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना (Covid-19) की भयावह रफ्तार के बीच भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने मरीजों के लिए 2670 कोविड केयर बेड तैयार किए हैं. रेल मंत्रालय (Rail Ministry) ने इस संबंध में घोषणा की है कि उसने चार राज्यों के 9 स्टेशन पर कोविड केयर बेड तैनात कर दिए हैं. ये चार राज्य देश के कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी और मध्य प्रदेश हैं. रेलवे ने ये बेड इन राज्यों में कोरोना बेड की कमी की खबरों के बीच तैयार किए हैं. सबसे ज्यादा बेड दिल्ली के लिए तैयार किए गए हैं.

रेल मंत्रालय द्वारा जारी की गई एक विज्ञप्ति के मुताबिक इन रेलवे कोच में कोरोना मरीजों के दाखिले भी किए जा रहे हैं. अब तक कुल 81 कोरोना मरीजों को इनमें रखा जा चुका है और 22 मरीज डिस्चार्ज भी किए जा चुके हैं. आइसोलेशन वार्ड के रूप में काम करने वाले ऐसे रेलवे कोच को पहली बार बीते साल तैयार किया गया था.

Youtube Video


हर राज्य को दिए गए कोविड केयर बेड की संख्या
वर्तमान में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रेलवे ने 75 कोच मुहैया कराए हैं जिनमें 1200 कोविड केयर बेड हैं. इनमें से 50 कोच शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन और 25 कोच आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर मौजूद हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में कुल पचास कोच लगाए गए हैं. ये कोच फैजाबाद, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद में तैनात हैं. कुल कोविड बेड की संख्या 800 है. वहीं मध्य प्रदेश में 20 कोच तैनात किए हैं जिनमें 292 बेड हैं. वहीं महाराष्ट्र में 24 कोच लगाए गए हैं जिनमें 292 बेड हैं.

बता दें कि देश में कोरोना की दूसरी लहर सभी अनुमानित आंकड़ों को पीछे छोड़ती जा रही है. सोमवार को देश में साढ़े तीन लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. इस बीच भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के वैज्ञानिकों ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान उपचाराधीन मामलों की संख्या 14 से 18 मई के बीच चरम पर पहुंचकर 38-48 लाख हो सकती है और चार से आठ मई के बीच संक्रमण के दैनिक मामलों की संख्या 4.4 लाख तक के आंकड़े को छू सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज