• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पढ़ें- राज ठाकरे ने कब-कब उगला जहर?

पढ़ें- राज ठाकरे ने कब-कब उगला जहर?

उत्‍तर भारतीयों के ऑटो रिक्‍शा को जलाने की धमकी देने वाले राज ठाकरे बार-बार जहरीले बयान देते रहे हैं. एक नजर उन विवादित बयानों पर.

उत्‍तर भारतीयों के ऑटो रिक्‍शा को जलाने की धमकी देने वाले राज ठाकरे बार-बार जहरीले बयान देते रहे हैं. एक नजर उन विवादित बयानों पर.

उत्‍तर भारतीयों के ऑटो रिक्‍शा को जलाने की धमकी देने वाले राज ठाकरे बार-बार जहरीले बयान देते रहे हैं. एक नजर उन विवादित बयानों पर.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
  • Share this:
    अपने विवादित बयानों से सुर्खियां बटोरने वाले महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं और उन्‍होंने एक बार फिर उन्‍होंने जहरीला बयान दिया है. इस बार राज ठाकरे ने धमकाते हुए अंदाज में मनसे कार्यकताओं से कहा कि वे उत्‍तर भारतीयों के ऑटो रिक्‍शा को जला दें.

    राज ठाकरे का दावा है कि नए ऑटोरिक्शा का 70 फीसदी परमिट गैर मराठियों को दिया गया है, जो मराठियों के साथ नाइंसाफी है. यदि नए परमिट वाले ऑटोरिक्शा को सड़कों पर दिखे तो ऑटो को आग लगा दी जाएगी. ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि राज ठाकरे ने ऐसे जहरीले बयान दिए हो. वे हर बार गैर मराठी को निशाना बनाते रहे हैं. एक नजर इन बयानों पर.

    अगस्‍त, 2015: हिंदी न्यूज चैनलों को भी धमकाते हुए कहा कि मुझे खलनायक की तरह पेश करने वाले इन चैनलों को महाराष्ट्र में बंद करवा दूंगा, ये आग में घी डालने का काम करते हैं और लोगों को बदनाम करते हैं. साथ ही मेरे खिलाफ जो लोग टीवी चैनलों पर बोल रहे हैं उन्हें छोड़ूंगा भी नहीं.

    जनवरी 2014: स्‍थानीय लोगों से टोल नाके पर टोल न देने की अपील करते हुए कहा था कि अगर कोई जबरदस्ती टोल मांगे तो उसको पीटो.

    जुलाई 2011: जब तक यूपी, बिहार जैसे राज्‍यों से मुंबई आने वाले लोगों की भीड़ रोकी नहीं जाएगी तब तक बम ब्‍लास्‍ट जैसे हादसे होते रहेंगे. बाहरी लोग सभी तरह की आपराधिक गतिविधियों में शामिल रहते हैं, बलात्‍कार से लेकर मर्डर तक.

    मई, 2013: एलबीटी आंदोलन के दौरान स्थानीय दुकानदारों को मंच से धमकाया और दुकानें खोलने पर मजबूर किया. साथ ही कहा, 'अगर दुकानदार दुकान नहीं खोलते तो मनसे के कार्यकर्ता खुद जा कर दुकान खोल देंगे.'

    फरवरी 2008: शिवाजी पार्क की एक रैली में कहा, 'अगर मुंबई और महाराष्ट्र में गैर मराठियों की दादागिरी जारी रही तो उन्हें महानगर छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया जाएगा.'

    अगस्‍त, 2010: गणेशोत्सव के पूजा पंडालों में अब सिर्फ मराठी गाने ही बजेंगे. अगर ऐसा नहीं हुआ तो अंजाम बेहद बुरा होगा.

    अगस्‍त 2009: बॉलीवुड केवल हिंसा की भाषा समझता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज