लाइव टीवी

बाल ठाकरे के जन्‍मदिन के बहाने उनकी हिंदुत्‍व की विरासत कब्‍जाने की कोशिश में राज, बदला MNS का झंडा

News18Hindi
Updated: January 23, 2020, 3:05 PM IST
बाल ठाकरे के जन्‍मदिन के बहाने उनकी हिंदुत्‍व की विरासत कब्‍जाने की कोशिश में राज, बदला MNS का झंडा
राज ठाकरे ने मुंबई के गोरेगांव की मेगारैली में मनसे का नया झंडा पेश किया.

बीजेपी से नाता तोड़कर महाराष्ट्र में सरकार बनाने वाले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) अब कांग्रेस-एनसीपी के साथ खड़े हैं. वहीं, महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे (Raj Thackeray) अब बाल ठाकरे के हिंदुत्व की विरासत को कब्जाने की कोशिश में जुट गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2020, 3:05 PM IST
  • Share this:
(रिपोर्ट: अभिषेक पांडेय)

मुंबई. महाराष्‍ट्र में सियासी हवा नया रुख लेती हुई नजर आ रही है. राज्य में सरकार बनाने के लिए उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नेतृत्‍व वाली शिवसेना (Shiv Sena) ने बीजेपी से पुराना नाता तोड़कर कांग्रेस और एनसीपी से गठबंधन कर लिया. गठबंधन में सरकार चलाने के कारण शिवसेना को हिंदुत्‍व समेत कई मुद्दों को ठंडे बस्‍ते में डालना पड़ गया है. अब महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray) खुद को शिवसेना के संस्‍थापक बाल ठाकरे की हिंदुत्‍व की विरासत के असली दावेदार के तौर पर पेश कर रहे हैं. इसकी बानगी मनसे की मुंबई के गोरेगांव में हुई मेगारैली में देखने को मिली.

अमित ठाकरे की पार्टी में एंट्री
बाल ठाकरे की जयंती पर राज ठाकरे ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने दो बड़े बदलाव किए. उन्होंने बेटे अमित ठाकरे की पार्टी में एंट्री कराई. वहीं, अधिवेशन के दौरान अपने पुराने झंडे को बदलकर भगवा झंडा कर दिया. इस झंडे में संस्‍कृत में 'प्रतिपच्चन्द्रलेखेव वर्धिष्णुर्विश्ववन्दिता, शाहसूनो: शिवस्यैषा मुद्रा भद्राय राजते' श्‍लोक लिखने के साथ ही शिवाजी महाराज की मुद्रा भी मौजूद है. मनसे ने अपना नया झंडा उस दिन पेश किया है, जिस दिन शिवसेना बाल ठाकरे की जयंती मना रही है.

पूरी तरह भगवा झंडे में श्‍लोक और शिवाजी महाराज की मुद्रा भी
राज ठाकरे ने मेगा रैली की शुरुआत वीर सावरकर, बीआर आंबेडकर, प्रबोधंकर ठाकरे और छत्रपति शिवाजी महाराज (Chatrapati Shivaji Maharaj) की तस्‍वीरों पर माला चढ़ाकर की. इस दौरान उन्‍होंने पार्टी का नया झंडा (New Party Flag) भी पेश किया.

 
मनसे के पुराने झंडे में नीला, सफेद, भगवा और हरा चार रंग थे. वहीं, नया झंडा पूरी तरह से भगवा है.


शिवसेना-बीजेपी के महाराष्‍ट्र में हाथ मिलाने की चल रहीं अटकलें
राज ठाकरे के चाचा बाल ठाकरे शिवसेना के संस्‍थापक हैं. वहीं, राज के चचेरे भाई उद्धव ठाकरे महाराष्‍ट्र की गठबंधन सरकार में मुख्‍यमंत्री हैं. इससे पहले यह भी कहा जा रहा था कि राज अपने बेटे अमित ठाकरे (Amit Thackeray) को इस मेगारैली के दौरान सक्रिय राजनीति (Active Politics) में उतारने की घोषणा भी कर सकते हैं.

वहीं, पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) और राज ठाकरे की मुलाकात के बाद यह भी कहा जा रहा है कि महाराष्‍ट्र में बीजेपी-मनसे ने हाथ मिला लिया है. शिवसेना से नाता तोड़ने के बाद राज ठाकरे पहली बार बाल ठाकरे की जयंती पर कार्यक्रम कर रहे हैं. एमएनएस की ओर से महारैली में लगाए गए पोस्टर पूरी तरह से भगवा हैं. पोस्‍टरों पर नारा दिया गया है, 'महाराष्ट्र धर्म के बारे में सोचो, हिंदू स्वराज्य का निर्धारण करो.'

मनसे के नये झंडे में संस्‍कृत में श्‍लोक के साथ ही शिवाजी महाराज की मुद्रा भी मौजूद है.


खुद को बाल ठाकरे के उत्‍तराधिकारी के तौर पर देखते रहे हैं राज
महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना के नेताओं का कहना है कि पार्टी का झंडा और नारा बदलने के राज ठाकरे के फैसले से महाराष्ट्र में नई ऊर्जा आएगी. महाराष्ट्र की राजनीति में नए मोड़ और विकल्प खुलेंगे. बाल ठाकरे के निधन के बाद राज ठाकरे गणेश उत्सव और दही हांडी जैसे कार्यक्रमों में भी आगे रहे हैं. राज हमेशा से खुद को बाल ठाकरे के उत्तराधिकारी के तौर पर देखते रहे हैं. बाल ठाकरे के व्यक्तित्व, भाषण, विचारों का खुलापन, आक्रामकता जैसी सभी चीजों को राज ठाकरे ने अपनाया. वह बाल ठाकरे की तरह आक्रामकता के साथ नारे लगाते हैं.

 

ये भी पढ़ें:

विजय रूपाणी का सोशल मीडिया मेकओवर कर रहे हैं शशि थरूर के भतीजे जय

सऊदी प्रिंस ने जेफ बेजोस को भेजे मैसेज में कहा था, हम आपके खिलाफ नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 2:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर