Rajasthan: सचिन पायलट बगावत के बाद पहली बार आए कैमरे के सामने, कहीं यह 5 खास बातें

Rajasthan: सचिन पायलट बगावत के बाद पहली बार आए कैमरे के सामने, कहीं यह 5 खास बातें
पायलट ने कहा, "हम लोगों ने पांच साल तक मेहनत कर यह सरकार बनाई है. इस सरकार में सभी की भागीदारी है."

सचिन पायलट ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi), पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi), वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed Patel) और केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) के साथ बैठक की. मुलाकात के बाद पायलट ने कहा कि पद को लेकर उनकी कोई लालसा नहीं है और उम्मीद है कि समस्या का जल्द समाधान हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 12:32 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजस्थान (Rajasthan) का सियासी संकट खत्म होता नजर आ रहा है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सोमवार को सचिन पायलट (Sachin Pilot) के साथ बैठक की. इस बैठक के बाद पायलट के बयान से सूबे में उठे सियासी तूफान के थमने की आहट मिल रही है. सचिन पायलट ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi), पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi), वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed Patel) और केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) के साथ बैठक की. पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट ने शीर्ष नेताओं से मुलाकात के बाद सोमवार को कहा कि पद को लेकर उनकी कोई लालसा नहीं है और उम्मीद है कि समस्या का जल्द समाधान हो जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनके और उनके समर्थक विधायकों द्वारा जो मुद्दे उठाए गए थे, वे सैद्धांतिक थे और इनके बारे में कांग्रेस आलाकमान को अवगत करा दिया गया है. पढ़ें 5 बड़ी बातें-

>> पायलट ने कहा, "सरकार और संगठन के कई ऐसे मुद्दे थे जिनको हम रेखांकित करना चाहते थे. चाहे देशद्रोह का मामला हो, एसओजी जांच का विषय हो या फिर कामकाज को लेकर आपत्तियां हों, उन सभी के बारे में हमने आलाकमान को बताया."

>> पायलट ने कहा, "हमने शुरू से यह बात कही कि जो हमारे मुद्दे हैं वे सैद्धांतिक हैं. मुझे लगता था कि ये पार्टी के हित में हैं और इनको उठाना बहुत जरूरी है. हमने ये सारी बातें आलाकमान के समक्ष रखी हैं." उन्होंने कहा, "पूरे प्रकरण के दौरान बहुत सारी बातें की गईं और यहां तक कि मेरे बारे में भी बहुत बातें हुईं. व्यक्तिगत तौर पर कुछ ऐसी बातें हुईं जिनका मुझे भी बुरा लगा. लेकिन संयम बनाए रखना चाहिए. राजनीति में व्यक्तिगत दुर्भावना की कोई जगह नहीं है." पायलट ने कहा, "हम लोगों ने पांच साल तक मेहनत कर यह सरकार बनाई है. इस सरकार में सभी की भागीदारी है."



ये भी पढ़ें- कब तक कांग्रेस की कमान संभालेंगी सोनिया, राहुल को इस्तीफा वापस लेना होगा: थरूर
>> पायलट ने कहा, "मुझे खुशी है कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हमारी बात सुनी. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और हम सभी ने विस्तार से चर्चा की. विधायकों की बातों को उचित मंच पर रखा गया है. मुझे आश्वासन दिया गया है कि तीन सदस्यीय समिति बनाकर तमाम मुद्दों का निराकरण किया जाएगा." उन्होंने इस बात पर जोर दिया, "पार्टी पद देती है, पार्टी पद ले भी सकती है. मुझे पद की बहुत लालसा नहीं है. हम चाहते हैं कि जिस मान-सम्मान और स्वाभिमान की बात की जाती है वह बनी रहे. पंद्रह वर्षों से पार्टी के लिए जो मेहनत की है, उसे पार्टी भी जानती है."

>> राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, "मुझे लगता था कि डेढ़ साल की सरकार में काम करने के बाद मेरा अनुभव रहा है, वो मैं कांग्रेस आलाकमान के समक्ष लेकर जाऊं. मुझे लगता है कि उनका निवारण होगा."



>> मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा किए गए हमलों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "हमने कभी भी ऐसी भाषा का इस्तेमाल और आचरण नहीं किया जो हमारे योग्य नहीं है." उन्होंने कहा, "हमारी जवाबदेही बनती है कि हम कैसे वादों को पूरा करें. पार्टी ने जो वादे किए थे, उन्हें पूरा करना जरूरी है. मुझे लगता है कि जल्द ही समस्या का समाधान हो जाएगा."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज