लाइव टीवी

रजनीकांत कठपुतली हैं, जिन्हें सांप्रदायिक तत्वों का समर्थन मिल रहा है: DMK

News18Hindi
Updated: October 26, 2018, 5:16 PM IST
रजनीकांत कठपुतली हैं, जिन्हें सांप्रदायिक तत्वों का समर्थन मिल रहा है: DMK
रजनीकांत (File Photo)

मुखपत्र में लिखा गया है कि मीडिया में जो आपके बारे में बात कर रहे हैं वे सांप्रदायिक हैं जो तमिल समुदाय को बांटना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2018, 5:16 PM IST
  • Share this:
द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि फिल्म स्टार रजनीकांत 'कुछ लोगों' के हाथ की कठपुतली हैं और सांप्रदायिक तत्वों द्वारा उनका समर्थन किया जा रहा है. डीएमके ने अपने मुखपत्र में हाल ही में रजनीकांत द्वारा रजनी मक्कल मंदरम को लेकर दिए गए बयान पर सवाल खड़े किए. मंगलवार को आरएमएम के सदस्यों से बातचीत में तमिल सुपरस्टार ने कहा कि वह धन और पद के लालच के बिना राजनीति में परिवतर्न लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

रजनीकांत ने इसके साथ ही इस बात को दोहराया कि वह पैसों और पद के लालच में आने वाले को अपनी पार्टी में शामिल नहीं करेंगे. रजनीकांत के बयान को लेकर डीएमके ने अपने मुखपत्र में उनपर निशाना साधा. पार्टी के मुखपत्र 'मुरासोली' में सवाल किया गया है कि अगर उन्हें धन और पद का लालच नहीं है तो उन्हें पेरियार की राह पर चलकर आंदोलन शुरू करना चाहिए.

अपने मुखपत्र में डीएमके ने कहा, 'डियर लीडर अगर आप ये कहना चाहते हैं कि वे पोस्ट राजनीति में आपके प्रवेश के बारे में नहीं थे, तो आपने इस बात की घोषणा क्यों की कि अगले पोल में आपकी पार्टी सभी (234 विधानसभा) सीटों पर चुनाव लड़ेगी. मुखपत्र में कहा गया है, 'आप भी पेरियार की तरह पार्टी लॉन्च कर सकते थे और अपने आदर्शो के लिए लगातार प्रयास करते रहते.'

इसके आगे मुखपत्र में लिखा गया है कि मीडिया में जो आपके बारे में बात कर रहे हैं वे सांप्रदायिक हैं, जो तमिल समुदाय को बांटना चाहते हैं. लेख में कहा गया है कि फैन आप पर विश्वास करते हैं, लेकिन आप कठपुतली बन चुके हैं और दूसरों की धुन पर डांस कर रहे हैं.

गौरतलब है कि पिछले साल रजनीकांत ने राजनीति में आने की घोषणा की थी. हालांकि, तब उन्होंने कहा था कि उनकी राजनीति अध्यात्मिक राजनीति होगी.

ये भी पढ़ें: 18 विधायकों को मद्रास HC ने ठहराया अयोग्य, AIADMK ने कहा- गद्दारों के लिए सही सबक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2018, 4:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर