राजीव गांधी हत्याकांड में दोषी नलिनी को मिली 30 दिन की पैरोल

राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदुर में मानव बम धनु ने हत्या कर दी थी. इस धमाके में कुल 18 लोगों की जान गई थी.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 3:32 PM IST
राजीव गांधी हत्याकांड में दोषी नलिनी को मिली 30 दिन की पैरोल
राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदुर में मानव बम धनु ने हत्या कर दी थी. इस धमाके में कुल 18 लोगों की जान गई थी.
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 3:32 PM IST
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड में दोषी नलिनी को मद्रास हाईकोर्ट ने 30 दिन की पैरोल दी है. बता दें  राजीव गांधी की 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदुर में मानव बम धनु ने हत्या कर दी थी. इस धमाके में कुल 18 लोगों की जान गई थी.

नलिनी ने चेन्नई के एक कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई की थी. वह चेन्नई में ही एक प्राइवेट कंपनी में स्टेनोग्राफर की नौकरी करती थी. इसके साथ ही वह डिस्टेंस एजुकेशन के जरिये मास्टर्स का कोर्स भी कर रही थी.

क्या थी राजीव गांधी हत्याकांड में भूमिका
सुनवाई के दौरान उसने यह माना था कि वह लिट्टे के एक एक्टिविस्ट के संपर्क में आई और इसी दौरान उसका लिट्टे की गतिविधियों से परिचय हुआ. बाद में वह इस संगठन की एक्टिव कैडर बन गई. उसका भाई पीएस भाग्यनाथन भी एक्टिव लिट्टे समर्थक था और उसकी प्रेस में तमिल ईलम समर्थित साहित्य छपा करता था.

क्यों मिली पैरोल
नलिनी, शुक्रवार को मद्रास हाईकोर्ट में पेश हुई. वह अपनी लंदन में रह रही बेटी की शादी की तैयारियों के लिए पैरोल चाहती थी. मद्रास हाईकोर्ट की डिविजन बेंच के जस्टिस एमएम सुंद्रेश और एम निर्मल कुमार के समक्ष पेश किया गया.

यह भी पढ़ें: गांधी परिवार दे चुका है माफी, फिर भी 28 सालों से जेल में हैं राजीव गांधी की हत्या के ये षड्यंत्रकारी
Loading...

क्यों माफ हुई थी फांसी
गिरफ्तारी के कुछ महीनों बाद ही नलिनी ने एक बेटी को जन्म दिया. जस्टिस थॉमस ने नलिनी की फांसी को माफ किए जाने के कई कारणों में से एक कारण उसकी छोटी बेटी को भी बताया था. उनके अनुसार यदि मुरुगन और नलिनी दोनों को फांसी हो जाती तो यह बच्ची अनाथ हो जाती. इसके कुछ ही दिनों बाद सोनिया गांधी व्यक्तिगत तौर पर जाकर राष्ट्रपति से मिलीं और उन्होंने नलिनी को माफ कर देने की अपील की. जिसके बाद वर्ष 2000 में राष्ट्रपति ने नलिनी की दया याचिका को मंजूरी देते हुए उसे माफ कर दिया.

सभी कैदी तमिलनाडु की जेलों में कैद
इस मामले में पकड़े गए लोग आज भी तमिलनाडु की जेलों में कैद हैं. हालांकि बार-बार राजीव गांधी के हत्यारों को रिहा किए जाने की मांग भी उठती रहती है. राजीव गांधी के हत्यारों को सोनिया गांधी सहित गांधी-नेहरू परिवार ने माफ कर दिया है.

यह भी पढ़ें: क्या सावरकर के परिवार में हुई गोडसे की भतीजी की शादी
First published: July 5, 2019, 3:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...