राजीव गांधी मामला: अब कपिल मिश्रा के वीडियो से आया नया ट्विस्ट

अलका लांबा (फाइल फोटो)
अलका लांबा (फाइल फोटो)

आप के पूर्वमंत्री कपिल मिश्रा ने विधानसभा की कार्यवाही का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें राम निवास गोयल राजीव गांधी विरोधी प्रस्ताव पास को स्वीकार करते दिख रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 22, 2018, 3:49 PM IST
  • Share this:
दिल्‍ली विधानसभा में शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का भारत रत्‍न सम्‍मान वापस लिए जाने का प्रस्‍ताव पेश होने के साथ ही आप में घमासान तेज हो गया है. एक ओर बागी तेवर अपनाते हुए अलका लांबा ने साफ कहा है कि प्रस्ताव में राजीव गांधी से भारत सम्मान वापस लेने की बात पहले से छपी थी. वहीं आप विधायक अलका लांबा के बयान से अलग विधानसभा स्पीकर राम निवास गोयल ने कहा है कि विधानसभा में पेश मूल प्रस्ताव में राजीव गांधी के नाम का जिक्र नहीं था और विधायक सोमनाथ भारती ने भावावेश में आकर हाथ से यह लिखा था. इसी बीच आप के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने विधानसभा की कार्यवाही का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें राम निवास गोयल राजीव गांधी विरोधी प्रस्ताव पास को स्वीकार करते दिख रहे हैं.

कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर अरविंद केजरीवाल को निशाना बनाया है. कपिल मिश्रा ने जो वीडियो अपने ट्वीट किया है उसमें साफ देखा जा सकता है कि विधानसभा में आप विधायक जरनैल सिंह प्रस्ताव पढ़ रहे हैं. इसके बाद स्पीकर गोयल के आदेश के बाद सभी सदस्य खड़े होते हैं और इस प्रस्ताव का समर्थन करते हैं.


कपिल मिश्रा ने दावा किया है कि अलका लांबा ने इस प्रस्‍ताव के पास होने की खबर सोशल मीडिया पर शेयर की इसलिए उनसे इस्‍तीफा मांग लिया गया. उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा है कि हर बार की तरह इस बार भी आप के नेता को बली का बकरा बनाया गया.



इसे भी पढ़ें :- राजीव गांधी के भारत रत्न पर AAP में घमासान, अलका लांबा की पार्टी से छुट्टी

जो भी परिणाम होगा भुगतने के लिए तैयार हूं : अलका लांबा
आम आदमी पार्टी ने विधायक अलका लांबा से इस्‍तीफा ले लिया है. सूत्रों ने बताया कि उनकी प्राथमिक सदस्‍यता भी रद्द कर दी गई है. दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को राजीव गांधी का भारत रत्न वापस लेने से जुड़ा एक प्रस्ताव पारित हुआ है. इस प्रस्ताव के विरोध में अलका लांबा ने सदन से वॉक आउट कर दिया था. वॉक आउट के बाद उन्होंने कहा था कि इसका जो भी परिणाम होगा वह भुगतने को तैयार हैं. हालांकि बाद में आम आदमी पार्टी ने बाद में इस प्रस्ताव पर यू-टर्न ले लिया.
इसे भी पढ़ें :-2019 में कांग्रेस के 'हाथ' की आस, राजीव के खिलाफ प्रस्ताव पर डिफेंसिव मोड में AAP

आम आदमी पार्टी का यू टर्न
इस मामले में आप नेता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि राजीव गांधी के भारत रत्न से जुड़ा प्रस्ताव मूल प्रस्ताव का हिस्सा नहीं था. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी से भारत रत्न छीनने वाला हिस्सा सोमनाथ भारती ने अपने हाथ से लिखा था. उन्होंने कहा, "मूल प्रस्ताव में हमने 1984 के नरसंहार के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने की मांग की थी. राजीव गांधी के भारत रत्न से जुड़ा अमेंडमेंट सोमनाथ भारती ने अपने हाथ से लिखा था. सदन में मूल प्रस्ताव पास हुआ लेकिन भारती का प्रस्ताव पास नहीं किया गया." हालांकि अलका लांबा ने बाद में इस संबंध में ट्वीट किया है, जिसमें राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने वाला हिस्सा हाथ से लिखा हुआ नहीं बल्कि प्रिंटेड नजर आ रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज