लाइव टीवी

रक्षामंत्री बनते ही राजनाथ सिंह से लोगों ने सतर्क रहने को क्यों कहा, खुद खोला राज

News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 8:17 PM IST
रक्षामंत्री बनते ही राजनाथ सिंह से लोगों ने सतर्क रहने को क्यों कहा, खुद खोला राज
राजनाथ सिंह ने कहा, भारत दूसरों के हथियार पर निर्भर नहीं रह सकता, निजी कंपनियां आगे आएं, मैं मदद करूंगा.

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार निजी रक्षा क्षेत्र को बढ़ावा देने और भारतीय रक्षा क्षेत्र (Indian defence sector) का आकार बढ़ाने के लिए मदद को तैयार है. सरकार की रक्षा बाजार को 2025 तक 26 अरब अमेरिकी डॉलर करने की योजना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 8:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में आयोजित 'इंडिया इंटरनेशनल सिक्योरिटी एक्सपो' (India International Security Expo 2019) में देश की निजी कंपनियों से रक्षा क्षेत्र में आगे आने को कहा. उन्होंने कहा, वह उनकी मदद करने के लिए तैयार हैं. भ्रष्टाचार की शिकायतों के डरे के कारण वह फैसले लेने में नहीं हिचकिचाएंगे. उन्होंने ये भी कहा कि किस तरह लोगों ने उन्हें रक्षामंत्री (defence minister) बनने के बाद चेताया था और सतर्क रहने को कहा था. उन्होंने इस बात का राज भी खोला कि क्यों लोगों ने उन्हें सतर्क रहने को कहा था.

राजनाथ बोले- लोगों ने सतर्क रहने को कहा
राजनाथ ने कहा कि जब वह रक्षा मंत्री बने तो लोगों ने कहा कि उन्हें किसी से मिलने जाने या किसी को मिलने बुलाने के दौरान सतर्क रहना चाहिये, क्योंकि इससे उन्हें भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलने की गुंजाइश हो सकती हैं. रक्षा मंत्री ने कहा, "उन्होंने मुझसे कहा कि कारोबार संबंधित कई प्रस्ताव और आयात तथा निर्यात संबधी मामले और प्रस्ताव आते हैं, लिहाजा मंत्री को इन सभी को लेकर सतर्क रहना चाहिए नहीं तो कोई न कोई उंगली उठा देगा."

निजी कंपनियां आगे आएं

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह  ने निजी क्षेत्र को रक्षा क्षेत्र में सक्रिय भागीदारी के लिए आमंत्रित करते हुए शुक्रवार को कहा कि वह भ्रष्टाचार की शिकायतों के डर की वजह से फैसले लेने से नहीं हिचकिचाएंगे. राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार निजी रक्षा क्षेत्र की उद्यमशीलता की भावना को बढ़ावा देने और भारतीय रक्षा क्षेत्र (Indian defence sector) का आकार 2025 तक 26 अरब अमेरिकी डॉलर करने की उनकी योजना में आने वाली दिक्कतों को दूर करने को लेकर चर्चा के लिये तैयार हैं.



राजनाथ (Rajnath singh) ने जोर देते हुए कहा कि उनके द्वार हमेशा खुले हैं. उन्होंने निजी कंपनियों से आगे आने का आग्रह करते हुए कहा कि जहां तक संभव हो, वे उनकी मदद करना चाहेंगे. सिंह ने यहां 'पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स' की ओर से आयोजित 'इंडिया इंटरनेशनल सिक्योरिटी एक्सपो' में कहा कि भारत लंबे समय तक आयातित हथियारों पर निर्भर नहीं रह सकता. चूंकि इससे महाशक्ति बनने की देश की योजना को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सकता.
Loading...

राजनाथ ने कहा, "भ्रष्टाचार के आरोपों से डरने वाले मंत्री को बचना (फैसले लेने से) चाहिए. राजनाथ सिंह इन सबकी परवाह नहीं करता. देश के लोग और बड़े औद्योगिक संगठन जानते हैं कि कौन क्या है. मैं बिल्कुल भी चिंतित नहीं हूं. आप आइए. मेरे द्वार खुले हैं. मैं आपकी जो भी मदद कर सकता हूं, रक्षा मंत्रालय वो मदद करेगा. मैं आपको यह आश्वासन देना चाहूंगा." दरअसल रक्षा खरीद में अकसर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं, जिनके संदर्भ में राजनाथ ने यह बात कही.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 7:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...