लाइव टीवी

राजनाथ बोले-भारत और चीन सेना के बीच मतभेद, लेकिन दोनों इतने समझदार कि तनाव कम कर सकें

News18Hindi
Updated: November 15, 2019, 5:47 PM IST
राजनाथ बोले-भारत और चीन सेना के बीच मतभेद, लेकिन दोनों इतने समझदार कि तनाव कम कर सकें
राजनाथ सिंंह शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया. यहां पर वह भारत-चीन सीमा पर भी गए.

अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के दौरे पर गए रक्षामंत्री राजनाथा सिंह (Rajnath Singh) ने कहा, बुम ला दर्रा के निकट एलएसी पर कोई तनाव नहीं है. सिंह ने भारत-चीन सीमा पर बुम ला की अग्रिम चौकी का दौरा किया और इस दौरान उन्होंने हर तरह के हालात में ‘बहुत परिपक्वता’ दिखाने के लिए भारतीय सेना (Indian Army) को बधाई दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 15, 2019, 5:47 PM IST
  • Share this:
बुम ला (अरुणाचल प्रदेश). रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने यहां शुक्रवार को कहा कि सीमा के मुद्दे पर भारत एवं चीन (India China) की अवधारणा में अंतर के बावजूद दोनों देशों की सेना इतनी समझदार हैं कि वे वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव कम कर सकें. उन्होंने साथ ही कहा कि बुम ला दर्रा के निकट एलएसी पर कोई तनाव नहीं है. सिंह ने भारत-चीन सीमा पर बुम ला की अग्रिम चौकी का दौरा किया और इस दौरान उन्होंने हर तरह के हालात में ‘बहुत परिपक्वता’ दिखाने के लिए भारतीय सेना (Indian Army) को बधाई दी.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मुझे यहां जवानों से बात करने का मौका मिला. मुझे अपने जवानों से यह जानकर बहुत खुशी हुई कि भारत-चीन की इस सीमा पर, जो कि एलएसी है, हम बहुत समझदारी से काम कर रहे हैं और चीन की पीएलए (पीपल्स लिबरेशन आर्मी) भी समझदारी से काम कर रही है. बुम ला दर्रा के निकट इस एलएसी में यहां कोई तनाव नहीं है.’उन्होंने बाद में एक ट्वीट किया, ‘मुझे बुम ला दौरे में पता चला कि सीमा मामले पर सोच संबंधी अंतर के बावजूद भारतीय सेना और पीएलए ने इतनी समझदारी दिखाई है कि एलएसी पर तनाव कम हो.’

राजनाथ परमवीर चक्र से सम्मानित सूबेदार जोगिंदर सिंह के स्मारक के भी दर्शन किए. राजनाथ ने ट्वीट किया, ‘अरुणाचल प्रदेश के बुम ला सेक्टर में परमवीर चक्र विजेता सूबेदार जोगिंदर सिंह की स्मृति स्थली के दर्शन करने का आज सौभाग्य मिला.’ उन्होंने ट्वीट किया, ‘1962 के युद्ध के समय उन्होंने अदम्य साहस और पराक्रम का परिचय देते हुए बलिदान दिया था. जहां उनकी शहादत हुई उस माटी को आज माथे से लगा लिया.’

ये भी पढ़ें...
भारत को 2020 तक मिलेगा पहला S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम, रूस को अदा की रकम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 15, 2019, 5:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर