एयर स्ट्राइक से पाकिस्तान परेशान, लेकिन यहां के कुछ नेता भी सदमे में: राजनाथ सिंह

न्यूज18 को दिए एक इंटरव्यू में राजनाथ सिंह ने कहा, 'ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है, जब किसी के द्वारा पूछा जाता है कि एयर स्ट्राइक में कितने लोग मारे गए. ऐसा पूछा नहीं जाना चाहिए.

News18.com
Updated: March 16, 2019, 1:57 PM IST
News18.com
Updated: March 16, 2019, 1:57 PM IST
पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर वायु सेना की एयर स्ट्राइक के बाद पूरे देश में जवानों के शौर्य को सलाम किया जा रहा है. हालांकि इस बीच विपक्ष के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने एयर स्ट्राइक को लेकर सवाल किए हैं. इस मामले पर न्यूज18 को दिए एक इंटरव्यू में राजनाथ सिंह ने कहा, 'ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है, जब किसी के द्वारा पूछा जाता है कि एयर स्ट्राइक में कितने लोग मारे गए. ऐसा पूछा नहीं जाना चाहिए. जब कोई ऐसे प्रश्न पूछता है तो इसका मतलब कि वे हमारी सेना और उनके शौर्य पर सवालिया निशान लगाने की कोशिश कर रहा है.'

राजनाथ सिंह ने कहा, 'यह जाहिर है कि एयर स्ट्राइक हुई, इसके कारण पाकिस्तान परेशान हुआ. वह सदमे में रहा है. मुझे आश्चर्य होता है कि इस सच्चाई को समझते हुए भी लोग क्यों ऐसे सवाल उठा रहे हैं? भारत में रहने वाले कुछ लोग या राजनीतिक पार्टी के कुछ नेता क्यों सदमे में हैं? पाकिस्तान सदमे में हो तो बात समझ में आती है, लेकिन भारत में रहने वाले नेताओं का सदमे में रहना समझ में नहीं आता है.'

राजनाथ सिंह ने कहा, 'हम सर्जिकल स्ट्राइक की मार्केटिंग नहीं कर रहे हैं. हां लेकिन ये सच है कि हमने एयरफोर्स के जवानों के शौर्य की प्रशंसा की. क्या ये नहीं किया जाना चाहिए? हमें गौरव की अनुभूति हुई है.'



यह भी पढ़ें: तस्वीरों में देखें इजरायल की गाजा पट्टी पर Air Strike

पाकिस्तान के साथ आगे के रिश्तों पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'पहले तो पाकिस्तान में जितने भी आतंकी ठिकाने हैं, वहां की सरकार द्वारा उन्हें खत्म करने की पहल की जानी चाहिए. आतंकवादी गतिविधियां वहां से न हो, किसी भी आतंकी संगठन को संरक्षण न मिले, पहले यह कोशिश की जानी चाहिए.'

यह भी पढ़ें: अलका लांबा का बड़ा बयान, कांग्रेस बुलाए तो छोड़ सकती हूं AAP

राजनाथ सिंह ने कहा, 'अगर पाकिस्तान की सरकार ऐसा प्रयास करती है, तो फिर बातचीत की जा सकती है. आतंकवाद और बातचीत दोनों साथ साथ नहीं चल सकती. कहीं न कहीं पाकिस्तान की ओर से ईमानदारी दिखनी चाहिए. पाकिस्तान पहले आतंकवादी ठिकानों का सफाया करे. वे डंके की चोट पर कहे कि आतंकवाद को पाकिस्तान की सरजमीं पर पनपने नहीं देंगे. हमारा पड़ोसी देश है, हम लोग भी चाहते हैं कि रिश्ते अच्छे रहें.'
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...