राज्यसभा में हंगामा करने वाले सांसदों पर की जा सकती है कार्रवाई, नारेबाजी के साथ फाड़े थे पेपर

सरकार विपक्ष द्वारा किए गए इस तरह के हंगामे से नाखुश है.
सरकार विपक्ष द्वारा किए गए इस तरह के हंगामे से नाखुश है.

Monsoon Session 2020: न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू इस घटना से बहुत परेशान हैं. वेंकैया नायडू ने उन सांसदों के खिलाफ कार्रवाई करने की संभावना जताई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 6:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि विधेयक (Farms Bill) के कारण रविवार का दिन संसद (Parliament) में काफी हंगामेदार रहा. कृषि बिल पर विपक्षी नेताओं द्वारा नारेबाजी की गई. इन नेताओं के खिलाफ अब कड़ी कार्रवाई किए जाने की संभावना है. उपराष्ट्रपति व राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू (M. Venkaiah Naidu) द्वारा संसद के उन सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की संभावना है, जिन सांसदों ने कृषि विधेयकों को लेकर उराज्य सभा की गरिमा का उल्लंघन कर हंगामा किया.

न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू इस घटना से बहुत परेशान हैं. वेंकैया नायडू ने उन सांसदों के खिलाफ कार्रवाई करने की संभावना जताई है, जिन्होंने सदन में हंगामा किया और उपसभापति के खिलाफ नारे लगाए और उनकी मेज पर रखे कागजात भी फाड़े हैं.

संसद की गरिमा को टीएमसी, आप सांसदों ने पहुंचाया नुकसान
रविवार को किसान बिल पर नाराजगी जाहिर करते हुए टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने संसद की गरिमा को नुकसान पहुंचाया. डेरेक ओ ब्रायन, कांग्रेस सांसद रिपुन बोरा, आप सांसद संजय सिंह और डीएमके सांसद तिरूचि शिवा ने उप सभापति हरिवंश नारायण की बेल में जाकर फुट नोट छीनने के साथ इन सांसदों ने उप सभापति के खिलाफ नारे लगाए और उनकी मेज पर मौजूद कागजों को फाड़ दिया था.
इस दौरान मार्शल ने बीच बचाव किया तो उपसभापति के सामने रखा माइक टूट गया. इसके बाद टीएमसी सांसद वहां से नारेबाजी करते हुए पीछे की ओर लौट गए. फिलहाल हंगामा बढ़ता देख उपसभापति ने राज्यसभा की कार्रवाई स्थगित कर दी गई.



कृषि मंत्री ने लगाया गुंडागर्दी का आरोप
नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि बिल कांग्रेस द्वारा गुंडागर्दी करने का भी आरोप लगाया. नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, 'कुछ राजनीतिक दलों द्वारा झूठ फैलाकर, देश की जनता को गुमराह करने का असफल प्रयास किया जा रहा है. कृषि बिल 2020 पूरी तरह से किसान हितैषी और उनकी आय में वृद्धि करने के लिए उठाया गया मोदी सरकार का एक महत्वपूर्ण कदम है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज