रामविलास पासवान को यूं ही नहीं कहा जाता था राजनीति का मौसम विज्ञानी

रिकॉर्ड वोट से जीतने के लिए गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड  में दर्ज था नाम
रिकॉर्ड वोट से जीतने के लिए गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज था नाम

आपातकाल में जेल जा चुके रामविलास पासवान का सियासी चातुर्य ऐसा था कि कांशीराम और मायावती की लोकप्रियता के दौर में भी वो बिहार के दलितों के मजबूत नेता के तौर पर बने रहे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2020, 10:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) नहीं रहे. रामविलास पासवान अकेले ऐसे नेता हैं, जो छह अलग-अलग प्रधानमंत्रियों के मंत्रिमंडल में मंत्री रहे. सभी विचारधाराओं वाले लोगों के साथ मिलकर काम किया. उन्हें राजनीति का मौसम विज्ञानी यूं ही नहीं कहा जाता था. विश्वनाथ प्रताप सिंह, एचडी देवगौडा, इंद्रकुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, डॉ. मनमोहन सिंह और अब नरेंद्र मोदी सभी की कैबिनेट में वो अपना अहम स्थान बनाकर रखे हुए थे.

आपातकाल में जेल जा चुके पासवान आठ बार लोकसभा सांसद रह चुके थे. हाजीपुर सीट से तो रिकॉर्ड 5 लाख से अधिक वोट से जीतकर उन्होंने अपना नाम गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करवा लिया था. उनका सियासी चातुर्य ऐसा था कि कांशीराम और मायावती की लोकप्रियता के दौर में भी वो बिहार के दलितों के मजबूत नेता के तौर पर बने रहे. उनके पास सभी को साधने और सियासी समीकरण में फिट होने की ऐसी असाधारण योग्यता थी कि उसके आगे चौधरी अजित सिंह भी पीछे छूट गए थे.

इसे भी पढ़ें: बिहार विधानसभा चुनाव में क्या कर पाएगा RLSP-BSP-AIMIM गठबंधन?



पासवान कब किस पद पर रहे?
>>वह विश्वनाथ प्रताप सिंह के समय 1989 में केंद्रीय श्रम मंत्री रहे.

>>एचडी देवगौडा और गुजराल सरकार के समय वो जून 1996 से मार्च 1998 तक रेल मंत्री रहे.

>>इसी तरह अक्टूबर 1999 से सितंबर 2001 के बीच अटल बिहारी वाजपेयी के शासन में वो संचार एवं आईटी मंत्री रहे.

>> अटल बिहारी वाजपेयी के ही शासन में सितंबर 2001 से अप्रैल 2002 के बीच वो खान मंत्री रहे.

>>डॉ. मनमोहन सिंह के समय 2004 से 2009 के बीच वह रसायन एवं उर्वरक तथा इस्पात मंत्री रहे.

>>2014 से अब तक मोदी सरकार में उनके पास उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय था.

 Ram Vilas Paswan death news, Political journey of Ram Vilas Paswan, ljp, bihar election, Ram Vilas paswan biodata, modi government minister, dalit leader, रामविलास पासवान का निधन, रामविलास पासवान का राजनीतिक सफर, लोक जनशक्ति पार्टी, बिहार चुनाव, रामविलास पासवान का बायोडाटा, मोदी सरकार के मंत्री, दलित नेता
चिराग पासवान ने पिता के साथ अपने ये पुरानी फोटो शेयर की है. (Credit- @iChiragPaswan)


पासवान को सत्ता का रुख भांपने का माहिर खिलाड़ी माना जाता रहा है. उन्हें सियासत का मौसम वैज्ञानिक कहते थे. वो जिसके साथ जाते थे उसकी सरकार बनती थी या फिर चुनाव के बाद उसके साथ हो लेते थे.

इसे भी पढ़ें: चौथी बार सीएम बनने के लिए क्या नीतीश कुमार के सामने कोई चुनौती है?

उनका जन्‍म 5 जुलाई 1946 को बिहार के खगड़िया जिले में हुआ था. पहली बार वो 1969 में बिहार से राज्‍यसभा के लिए संयुक्‍त सोशलिस्‍ट पार्टी के उम्‍मीदवार के रूप में चुने गए. इसके बाद 1977 में छठी लोकसभा में पासवान जनता पार्टी का दामन थामकर संसद पहुंचे. साल 1983 में उन्‍होंने दलित उत्‍थान के लिए दलित सेना का गठन किया. साल 2000 में पासवान ने जनता दल यूनाइटेड (JDU) से अलग होकर लोक जनशक्‍ति पार्टी का गठन किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज