लाइव टीवी

शरद पवार को मिला आठवले का समर्थन, बोले- दस्तावेजों में उन पर नहीं है कोई विशेष आरोप

भाषा
Updated: September 28, 2019, 3:18 AM IST
शरद पवार को मिला आठवले का समर्थन, बोले- दस्तावेजों में उन पर नहीं है कोई विशेष आरोप
आठवले ने शुक्रवार को कहा कि राकांपा प्रमुख शरद पवार के खिलाफ घोटाले को लेकर कोई विशिष्ट आरोप नहीं है.

रामदास आठवले (Ramdas Athawale) ने शुक्रवार को कहा कि राकांपा प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के खिलाफ घोटाले को लेकर कोई विशिष्ट आरोप नहीं है. इसलिए ईडी को पवार के खिलाफ कोई नहीं करनी चाहिए.

  • भाषा
  • Last Updated: September 28, 2019, 3:18 AM IST
  • Share this:
पुणे. केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले (Ramdas Athawale) राकांपा (NCP) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) का समर्थन में किया है. उन्होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) को शरद पवार के खिलाफ जांच नहीं करनी चाहिए. दरअसल पवार पर करोड़ों रुपये के महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक घोटाले के आरोप में ईडी ने मामला दर्ज किया है.

आठवले ने शुक्रवार को कहा कि राकांपा प्रमुख शरद पवार के खिलाफ घोटाले को लेकर कोई विशिष्ट आरोप नहीं है. इसलिए ईडी को पवार के खिलाफ कोई नहीं करनी चाहिए. बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने राज्य सहकारी बैंक घोटाले के संबंध में पवार और  उनके भतीजे व पूर्व मुख्यमंत्री अजित पवार के खिलाफ एक धनशोधन मामला दर्ज किया है.

प्रवर्तन निदेशालय ने राज्य सहकारी बैंक घोटाले के संबंध में पवार और उनके भतीजे व पूर्व मुख्यमंत्री अजित पवार के खिलाफ एक धनशोधन मामला दर्ज किया है.


दरअसल यह मामला मुंबई पुलिस की प्राथमिकी पर आधारित है. इस प्राथमिकी में बैंक के पूर्व अध्यक्ष अजित पवार और सहकारी बैंक के 70 पूर्व अधिकारियों का नाम है. आठवले ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा था, ‘ईडी याचिकाकर्ता द्वारा दिए गए दस्तावेजों के आधार पर मामले की जांच कर रहा है. लेकिन इन दस्तावेजों में शरद पवार पर कोई विशेष आरोप नहीं है.’

भाजपा सरकार का जांच से नहीं कोई संबंध
उन्होंने कहा कि पवार एक वरिष्ठ नेता हैं जो अपने राजनीतिक जीवन में हमेशा सतर्क रहे. आठवले ने दावा किया कि भाजपा सरकार का जांच से कोई संबंध नहीं है और न ही यह जांच राजनीति से प्रेरित है.गौरतलब है कि ईडी ने महाराष्ट्र सहकारी बैंक घोटाला मामले में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार, उनके भतीजे और पूर्व उप मुख्यमंत्री अजीत पवार व अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में आपराधिक मामला दर्ज किया है.

25 हजार करोड़ का घोटालायह घोटाला करीब 25 हजार करोड़ का बताया जा रहा है. हालांकि राकांपा प्रमुख शरद पवार ने मंगलवार को कहा था कि उन्हें प्रवर्तन निदेशालय के कदम से कोई हैरानी नहीं हुई. पवार ने व्यंग्यात्मक लहजे में केंद्रीय एजेंसी को उस बैंक से संबंधित मामले में नाम घसीटने के लिए धन्यवाद दिया था, जिसके वह ना तो सदस्य हैं और न ही किसी भी तरह से इसके निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल हैं.

वहीं FIR दर्ज होने पर उन्होंने कहा था कि मुझे जेल जाने में कोई भी परेशानी नहीं है. मुझे खुशी होगी क्योंकि मैंने ऐसा अनुभव पहले कभी भी नहीं किया. उन्होंने कहा कि अगर कोई मुझे जेल भेजना चाहता है तो उसका स्वागत है.

ये भी पढ़ें: 

सुषमा स्‍वराज की बेटी बांसुरी ने निभाया मां का ये आखिरी वादा

महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव से पहले अजित पवार ने दिया इस्‍तीफा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 28, 2019, 3:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर