आसमान में था विमान, बंद हो गया था इंजन, फिर रतन टाटा ने इस तरह बचाई थी सबकी जान

रतन टाटा ने बताया किस्‍सा. (Pic- Reuters)
रतन टाटा ने बताया किस्‍सा. (Pic- Reuters)

रतन टाटा (Ratan Tata) के अनुसार 17 साल की उम्र में वह कॉलेज में थे. उस दौरान वह अपने कुछ दोस्‍तों के साथ विमान उड़ाना सीख रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2020, 8:21 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश के बड़े कारोबारी और टाटा ग्रुप के पूर्व चेयामैन रतन टाटा (Ratan Tata) के जीवन से जुड़े हुए कई रोचके किस्‍से हैं. इन किस्‍सों को वह खुद दुनिया को बताते हैं. ऐसा ही एक किस्‍सा उन्होंने हाल ही में एक चैनल के शो में बताया है. उनके अनुसार जब वह 17 साल के थे तो वह एक विमान में थे, जो कि क्रैश होते होते बचा था. उन्होंने शो में बताया कि कैसे उन्‍होंने प्‍लेन को क्रैश होने से बचाया और मौत को मात दी.

रतन टाटा के अनुसार 17 साल की उम्र में वह कॉलेज में थे. 17 साल की उम्र को विमान उड़ाने के लिए पायलट लाइसेंस लेने के लिए वैध उम्र माना जाता था. उन्‍होंने बताया कि उस समय उनके लिए यह मुमकिन नहीं था वह प्‍लेन उड़ाने की प्रैक्टिस के लिए हर बार विमान को किराए पर ले सकें. ऐसे में उन्‍होंने बताया कि उन्‍होंने अपने दोस्‍तों से बात की. वे भी प्‍लेन उड़ाना सीख रहे थे. रतन टाटा ने उनसे कहा कि अगर तुम लोगों को विमान उड़ाना है तो आओ चलें. किराये का कुछ हिस्‍सा मैं आपको दे दूंगा. वह हमेशा इस तरह की मदद के लिए तैयार रहते हैं.

इसके बाद सभी प्‍लेन उड़ाने लगे. सब बेहद खुश थे. इसी बीच उनके विमान का इंजन खराब हो गया . उससे पहले विमान तेजी से हिला भी था. इससे सब लोग काफी परेशान हो गए थे. कोई कुछ नहीं बोल रहा था. कुछ देर बाद विमान क्रैश जाता.

ऐसे में टाटा ने यह सोचना शुरू किया कि वह विमान को सुरक्षित कैसे उतरे. बाद में वह प्‍लेन को धरती पर लाने में सफल रहे. उनका कहना है कि इंसान को मुश्किल दौर में शांति से काम लेना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज