लाइव टीवी

फिंगरप्रिंट बनाकर चोरी करते थे गरीबों का राशन, फिर करते थे काला बाजारी, फिर हुआ भंडाफोड़

News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 10:13 PM IST
फिंगरप्रिंट बनाकर चोरी करते थे गरीबों का राशन, फिर करते थे काला बाजारी, फिर हुआ भंडाफोड़
साइबर क्राइम सेल के अनुसार, गैंग केे पास 2500 लोगों फिंगरप्रिंट हो सकते हैं. प्रतीकात्‍मक फोटो

गुजरात (Gujarat) के अहमदाबाद (Ahmedabad) की साइबर क्राइम सेल (Cyber crime cell) ने एक राशन रैकेट का पर्दाफाश किया है. इसमें फर्जी तरीके से सत्यापित किए गए कागजों के सहारे राशन की चोरी हो रही थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 10:13 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात (Gujarat) के अहमदाबाद (Ahmedabad) की साइबर क्राइम सेल (Cyber crime cell) ने एक राशन रैकेट का पर्दाफाश किया है. इसमें फर्जी तरीके से सत्यापित किए गए कागजों के सहारे राशन की चोरी हो रही थी. साइबर क्राइम सेल ने 1100 फर्जी फिंगरप्रिंट (finger print) बरामद किए हैं. इन्हें सिलिकॉन (silicon) जैसे किसी मटेरियल से बनाया गया था. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इस रैकेट से सुरक्षा संबंधी कई सवाल खड़े हो गए हैं. रैकेट चलाने वालों ने जिस तरीके को इस्तेमाल किया, उससे वह ऐसे किसी भी डॉक्यूमेंट या डेटा को चुरा सकते हैं, जिसमें बायो मैट्रिक्स की पहचान जरूरी होती है.

रिपोर्ट के अनुसार, राशन की दुकान चलाने वाला मालिक फिंगर प्रिंट और डेटा को इस रैकेट को चलाने वाले मास्टर माइंड भारत चौधरी को देता था. भारत गुजरात के बनासकांठा का रहने वाला है. दुकान के मालिक को एक नाम के लिए 1000 रुपए मिलते थे. भारत इन फिंगर प्रिंट को स्कैन कर लेता था. इसके बाद इन फिंगर प्रिंट के सहारे गरीबों को दिए जाने वाला राशन चुरा लिया जाता था. इसके बाद अनाज और दूसरा सामान की काला बाजारी होती थी. राशन की दुकान के मालिक को सामान से हुई कमाई का हिस्सा भी मिलता था.

पुलिस ने भारत चौधरी समेत उसकी गैंग के 40 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. कहा जा रहा है कि चौधरी के पास 2500 लोगों फिंगरप्रिंट मौजूद हैं. साइबर क्राइम सेल के डीसीपी राजदीप सिंह झाला का कहना है कि ये एक बड़ा घोटाला है जो हरियाणा जैसे कई राज्यों में फैला हुआ है. उचित मूल्य की दुकान का मालिक यह न केवल फिंगरप्रिंट कास्ट का दुरुपयोग कर सकते है, बल्कि यह राष्ट्रीय हित के लिए विनाशकारी हो सकता है. आप कल्पना कर सकते हैं कि आपके फिंगर प्रिंट किसी और के पास हैं और वह उसके सहारे कुछ भी कर सकता है. इस घोटाले से जुड़े कुछ और लोगों की गिरफ्तारी जल्द होगी.

यह भी पढ़ें...

जमानत पर रिहा हुआ चिन्मयानंद, खुशी में सैकड़ों लोगों को खिलाया गया खाना

पुलिस का दावा: पत्नी के बॉयफ्रेंड ने दी थी रंजीत बच्चन की हत्या की सुपारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Ahmedabad से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 10:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर