देश की इकॉनमी पर RBI की रिपोर्ट को लेकर राहुल गांधी बोले- मैं जो कहता रहा, वही हुआ

देश की इकॉनमी पर RBI की रिपोर्ट को लेकर राहुल गांधी बोले- मैं जो कहता रहा, वही हुआ
राहुल गांधी ने साधा सरकार पर निशाना.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भी आर्थिक गतिविधियों (Indian Economy) में गिरावट जारी रह सकती है. RBI की इस रिपोर्ट पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने टिप्पणी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 11:43 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि आर्थिक गतिविधियों (Indian Economy)में गिरावट चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भी जारी रह सकती है. RBI ने कहा कि मई और जून माह के दौरान आर्थिक गतिविधियों में जो बढ़त देखी गई थी, वह कोरोना वायरस महामारी को नियंत्रित करने के लिये फिर से लगाये गये लॉकडाउन के कारण अपनी बढ़त खो बैठी हैं. RBI की इस रिपोर्ट के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा कि वह जो महीनों से कह रहे हैं उसकी पुष्टि RBI ने कर दी.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘जिस बारे में मैं महीनों से आगाह कर रहा था उसकी पुष्टि आरबीआई ने की है. सरकार को अब ज्यादा खर्च करने की जरूरत है, कर्ज देने की जरूरत नहीं है. गरीब को पैसा दीजिए, उद्योगपतियों के कर में कटौती नहीं. खपत से अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाइए.’ कांग्रेस नेता ने कहा कि मीडिया के जरिए भटकाने से गरीबों की मदद नहीं होगी और न ही आर्थिक त्रासदी गायब होगी.


राहुल ने ट्वीट में कहा- 'मैं जो महीनों से कह रहा हूं RBI ने उसकी पुष्टि कर दी. सरकार को चाहिए कि उधार कम ले, खर्च ज्यादा करे. गरीब को रुपए दे, उद्योगपतियों के टैक्स में कटौती ना हो ताकि कंजम्प्शन के जरिए अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू किया जा सके.' वायनाड सांसद ने कहा कि - 'मीडिया के जरिए रुख मोड़ने से गरीबों को मदद नहीं मिलेगी या आर्थिक आपदा गायब नहीं होगी.'



दूसरी तिमाही में भी जारी रह सकता है आर्थिक संकुचन: आरबीआई
गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस को काबू में रखने के लिये 25 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन लगाया था. उसके बाद मई में इस लॉकडाउन में आंशिक छूट दी गई जिससे उसके बाद लगातार विभिन्न चरणों में हटाया गया है. लेकिन कुछ राज्यों में कोविड- 19 का प्रसार बढ़ने की वजह से फिर से लॉकडाउन लगाया गया है.

रिजर्व बैंक की मंगलवार को जारी वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि अब तक प्राप्त त्वरित आंकड़ों से जो संकेत मिलता है वह गतिविधियों में कमी आने की तरफ इशारा करते हैं यह अपने आप में अप्रत्याशित है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय 31 अगस्त को चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान जारी करेगा. बहरहाल रिजर्व बैंक ने अपनी सालाना रिपोर्ट में आर्थिक वृद्धि के बारे में कोई अनुमान नहीं दिया है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज