मुंबई में ब्लैक फंगस के केस बढ़े, पढ़ें देश-दुनिया की 10 बड़ी खबरें एक क्लिक में

कोरोना से ठीक हो रहे लोगों में हो रहा है ब्लैक फंगस इंफेक्शन.

कोरोना से ठीक हो रहे लोगों में हो रहा है ब्लैक फंगस इंफेक्शन.

आइए जानते हैं उन प्रमुख खबरों के बारे में जिन्होंने देश ही नहीं दुनियाभर में सुर्खियां बटोरीं और आज इन पर आप सबकी रहेगी नजर.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के बीव कई राज्‍यों में कोविड वैक्‍सीन की कमी की शिकायत के बाद सीरम इंस्‍टीट्यूट ने अगस्‍त के आखिर तक या शुरू से हर महीने 10 करोड़ कोविशील्‍ड वैक्‍सीन उत्‍पादन करने के लिए कहा है. साथ ही भारत बायोटेक ने हर महीने 7.8 करोड़ कोवैक्सिन वैक्‍सीन बनाने का वादा किया है. सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी बुधवार को साझा की है. वहीं बृह्नमुंबई मुनसिपल कॉरपोरेशनने बुधवार को जानकारी दी है कि मुंबई में ब्लैक फंगस से पीड़ित करीब 111 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है. ये सभी मरीज कोविड-19 से रिकवर हो चुके हैं.

PM मोदी ने कोरोना संकट पर की उच्‍चस्‍तरीय बैठक, म्‍यूकरमाइकोसिस पर भी की चर्चा

देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी गंभीर हैं. उनकी ओर से इस संकट से निपटने के लिए हरसंभव कदम उठाने की रणनीति बनाई जा रही है.

इस बीच पीएम मोदी ने देश के कोरोना संकट को लेकर बुधवार को एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक की. इसमें उन्‍होंने म्‍यकरमाइकोसिस या ब्‍लैक फंगस के मामलों को लेकर भी चर्चा की.
(यहां पढ़ें पूरी खबर)

सीरम अगस्‍त से हर महीने 10 करोड़ तो भारत बायोटेक 7.8 करोड़ टीके बनाएगा

देश में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के बीव कई राज्‍यों में कोविड वैक्‍सीन की कमी की शिकायत के बाद सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक ने अपनी वैक्‍सीन उत्‍पादन को केंद्र सरकार को रिपोर्ट दी है.



इसमें सीरम इंस्‍टीट्यूट ने अगस्‍त के आखिर तक या शुरू से हर महीने 10 करोड़ कोविशील्‍ड वैक्‍सीन उत्‍पादन करने के लिए कहा है. साथ ही भारत बायोटेक ने हर महीने 7.8 करोड़ कोवैक्सिन वैक्‍सीन बनाने का वादा किया है. सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी बुधवार को साझा की है.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

वरिष्ठ हृदय रोग डॉ. केके अग्रवाल विशेषज्ञ एम्स के ICU में भर्ती

पद्मश्री सम्मान से सम्मानित वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. केके अग्रवाल को कोरोना संक्रमण के बाद एम्स के आईसीयू में भर्ती कराया गया है. केके अग्रवाल ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से बीते 28 अप्रैल को जानकारी दी थी कि वो कोरोना संक्रमित हो गए हैं. उन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ली हुई.

केके अग्रवाल कोरोना संक्रमण के बाद भी लगातार अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से लोगों को कोरोना के इलाज संबंधी जानकारी देते रहे हैं. अपने संक्रमण की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया था कि उनका सिटी स्कैन नॉर्मल आया है.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

मुंबई में ब्लैक फंगस के 111 केस, बीएमसी ने बनाया बड़ा प्लान

बृह्नमुंबई मुनसिपल कॉरपोरेशनने बुधवार को जानकारी दी है कि मुंबई में ब्लैक फंगस से पीड़ित करीब 111 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है. ये सभी मरीज कोविड-19 से रिकवर हो चुके हैं. दरअसल ये जानकारी बीएमसी के नेता प्रभाकर शिंदे की मांग पर उपलब्ध कराई गई है.

बीएमसी की स्टैंडिंग कमेटी के सामने एडीशनल मुनसिपल कमिश्नर सुरेश काकानी ने कहा है कि ब्लैक फंगस के 38 मरीजों का इलाज बीवाई नायर अस्पताल में, 34 का केईएम अस्पताल, 32 का सियॉन अस्पताल और 7 का कूपर अस्पताल में हो रहा है. इनमें ज्यादातर मरीज मुंबई से बाहर के रहने वाले हैं.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

नक्सलियों तक पहुंचा कोरोना संक्रमण, खौफ में जंगल छोड़कर गांव भाग रहा कैडर

कोरोना वायरस से देश के आम लोगों के अलावा जंगलों को अपना ठिकाना बनाने वाले नक्सली भी अब इससे संक्रमित हो रहे है. छत्तीसगढ़ के जंगलों में सर्च ऑपरेशन के दौरान सुरक्षाबलों के हाथ लगी एक नक्सल कैडर की चिट्ठी से इस बात का खुलासा हुआ है.

कोरोना महामारी से नक्सली खौफ में हैं, वो जंगल छोड़कर गांवों की ओर भाग रहे हैं. हाल-फिलहाल कई नक्सलियों के कोरोना से संक्रमित होने और कइयों की इससे मौत की खबर आई है. इसके अलावा, कई टॉप नक्सल कमांडरों के भी कोरोना से संक्रमित होने की बात कही जा रही है.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

PM केयर्स फंड से 1.5 लाख ऑक्सीकेयर सिस्टम खरीद को मंजूरी, DRDO ने बनाया

कोरोना मरीजों की ऑक्सजीन संबंधी दिक्कतों के स्थाई समाधान के लिए केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है. पीएम केयर्स फंड के जरिए केंद्र सरकार डेढ़ लाख ऑक्सीकेयर सिस्टम की खरीद करेगी. इस सिस्टम को DRDO द्वारा तैयार किया गया है.

डीआरडीओ ने अपनी तकनीक देश की कई कंपनियों को ट्रांसफर की हैं जो इस ऑक्सीकेयर सिस्टम को तैयार करेंगी. पीएम केयर्स के जरिए ये खरीद 322 करोड़ रुपए में की गई है.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

कोरोना: महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाने की तैयारी, 18+ का वैक्सीनेशन रुका

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच एक बार फिर लॉकडाउन बढ़ना तय माना जा रहा है. बुधवार को कैबिनेट बैठक में स्वास्थ्य मंत्रालय और मंत्रियों ने लॉकडाउन को अगले 15 दिनों तक (30 मई) बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है.

कैबिनेट की बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि राज्य में 15 दिनों का लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा या नहीं इस पर आखिरी फैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लेंगे.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

रोहतक जेल में बंद गुरमीत राम रहीम सिंह की तबियत बिगड़ी

साध्वी यौन शोषण मामले में रोहतक जेल में बंद गुरमीत राम रहीम सिंह की तबियत अचानक खराब हो गई है और उसे रोहतक पीजीआई में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है. हालांकि अभी इस बात की पुष्टि कोई नहीं कर रहा है लेकिन सूत्रों के अनुसार अस्पताल लाया गया कैदी गुरमीत राम रहीम सिंह ही है.

पुलिस की खास सुरक्षा व्यवस्‍था के बीच गुरमीत को लेकर एंबुलेंस पीजीआई पहुंची. इस दौरान अस्पताल और रास्ते में भारी संख्या में पुलिसबल को तैनात कर दिया गया था. फिलहाल ये नहीं बताया गया है कि गुरमीत को किस बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

बीजेपी नेता निशीथ प्रमाणिक और जगन्नाथ सरकार ने दिया विधायक पद से इस्तीफा

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने सांसदों और मंत्रियों को भी उम्मीदवार बनाया था. इनमें से बीजेपी के दो सांसद निशीथ प्रमाणिक और जगन्नाथ सरकार क्रमशः दिनहाटा और शांतिपुर से विधायक निर्वाचित हुए हैं, लेकिन अब दोनों नेताओं ने पार्टी के निर्देश पर विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है.

दोनों ने विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी को अपना इस्तीफा सौंपा है. विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद निशीथ प्रमाणिक ने कहा, 'हमने पार्टी के फैसले का पालन किया है. पार्टी ने फैसला किया है कि हमें अपनी विधानसभा सीटों से इस्तीफा दे देना चाहिए.'

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

दिल्ली के DRDO कोरोना अस्पताल को सबसे पहले दी जाएगी एंटी-कोविड ड्रग 2 DG

देश में कोरोना के बिगड़े हालात को काबू में करने के लिए सरकार का पूरा अमला जुटा हुआ है. कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में सरकार, सेना और आम लोग भी अपनी भूमिका निभाने में लगे हैं.

डीआरडीओ ने भी अपने वैज्ञानिकों को कोरोना से निपटने के लिए और दवा पर शोध करने के लिए पहले दिन ही लगा दिया था. तकरीबन एक साल के शोध और क्लिनिकल ट्रायल के बाद जो दवा बनकर आई वो है 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज.

(यहां पढ़ें पूरी खबर)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज