बहुत जरूरी है कोरोना वैक्सीन की दो डोज़, अफवाहों में न पड़ें लोग- पीएम मोदी की कही 10 खास बातें

कोरोना वैक्‍सीन टीकाकरण की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने राष्‍ट्र को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने देश में कोरोना वायरस के संक्रमण और प्रबंधन के मद्देनजर टीकाकरण से पहले देश को संबोधित किया. पीएम ने कहा कि भारत ने 24 घंटे सतर्क रहते हुए, हर घटनाक्रम पर नजर रखते हुए, सही समय पर सही फैसले लिए. यहां पढ़ें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन की खास बातें...

  • Share this:
    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शनिवार को देश में कोरोना वायरस के संक्रमण और प्रबंधन के मद्देनजर (Coronavirus Vaccination Drive) टीकाकरण अभियान की शुरुआत की. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ. जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया. हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा.

    पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने 24 घंटे सतर्क रहते हुए, हर घटनाक्रम पर नजर रखते हुए, सही समय पर सही फैसले लिए. 30 जनवरी को भारत में कोरोना का पहला मामला मिला, लेकिन इसके दो सप्ताह से भी पहले भारत एक हाई लेवल कमेटी बना चुका था. पिछले साल आज का ही दिन था जब हमने बाकायदा सर्विलांस शुरू कर दिया था.

    यहां पढ़ें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन की खास बातें

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रव्यापी कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत से पहले कहा कि देश इस दिन का बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहा था. इतने कम समय में हमें दो टीके मिल गए हैं, यह हमारे वैज्ञानिकों की प्रतिभा और कौशल का प्रमाण है.
    प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत का टीकाकरण अभियान बहुत ही मानवीय और महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर आधारित है, जिसे सबसे ज्यादा जरूरत है, उसे सबसे पहले कोरोना का टीका लगेगा.
    इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    पीएम मोदी ने कहा कि हमारे वैज्ञानिक और विशेषज्ञ जब दोनों ‘मेड इन इंडिया’ टीकों की सुरक्षा और प्रभाव को लेकर आश्वस्त हुए, तभी उन्होंने इनके आपात स्थिति में उपयोग की अनुमति दी. इसलिए देशवासियों को किसी भी तरह के भ्रामक प्रचार, अफवाहों और दुष्प्रचार से बचकर रहना है.
    प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के वैक्सीन वैज्ञानिक, हमारा मेडिकल सिस्टम, भारत की प्रक्रिया की पूरे विश्व में बहुत विश्वसनीयता है. हमने ये विश्वास अपने ट्रैक रिकॉर्ड से हासिल किया है.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'मैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है. पहली और दूसरी डोज के बीच, लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा. दूसरी डोज़ लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध ज़रूरी शक्ति विकसित हो पाएगी.'
    आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे थे. आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं लेकिन इतने कम समय में एक नहीं, दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं- पीएम मोदी
    प्रधानमंत्री ने कहा, 'हमारे डॉक्टर, पुलिस के साथी, दूसरे फ्रंटलाइन वर्कर्स ने मानवता के प्रति अपने दायित्व को प्राथमिकता दी. इनमें से अधिकार अपने बच्चों और परिवार से दूर रहे. कई कई दिन तक घर नहीं गए. सैंकड़ों साथी ऐसे भी हैं, जो कभी घर वापस लौट कर नहीं आ पाए. उन्होंने एक-एक जीवन को बचाने के लिए अपना जीवन आहूत कर दिया.'
    पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है. केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा.
    ऐसे समय में जब कुछ देशों ने अपने नागरिकों को चीन में बढ़ते कोरोना के बीच छोड़ दिया था, तब भारत, चीन में फंसे हर भारतीय को वापस लेकर आया. और सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए- पीएम मोदी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.