...तो क्या NRI शादी के लिए जरूरी होगा आधार कार्ड!

भाषा
Updated: September 13, 2017, 10:51 PM IST
...तो क्या NRI शादी के लिए जरूरी होगा आधार कार्ड!
सांकेतिक तस्वीर
भाषा
Updated: September 13, 2017, 10:51 PM IST
एक इंटर मिनिस्टीरयल कमिटी ने विदेश मंत्रालय से अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) की शादी के रजिस्ट्रेशन के लिए आधार को जरूरी बनाने की सिफारिश की है. शादी से जुड़ी कई समस्याओं से निपटने के उद्देश्य के तहत कमिटी ने यह अनुशंसा की है.

भारतीय पासपोर्ट धारकों को लेकर विशेष समिति की अनुशंसा का लक्ष्य ऐसी महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना है, जिनको उनके एनआरआई पति छोड़ देते हैं. साथ ही इसका ध्येय ऐसी महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना है जिनको दूसरे देशों में घरेलू हिंसा और दहेज उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है.

पिछले महीने की 30 तारीख को विदेश मंत्रालय को सौंपी गयी इस रिपोर्ट की सामग्री के बारे में जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया, ‘‘(भारत में) एनआरआई की शादी के पंजीयन के लिए आधार को अनिवार्य बनाये जाने का प्रस्ताव है.’’ भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण एनआरआई लोगों, दूसरे देशों में रह रहे भारतीयों और भारतीय मूल के लोगों के आधार पंजीयन को लेकर नीति पर काम कर रहा है. वर्तमान में भारतीय नागरिकों समेत सभी निवासी और वैध वीजा वाले विदेशी व्यक्ति आधार नंबर के लिए पंजीयन करा सकते हैं.

समिति ने कई देशों के साथ अपनी प्रत्यर्पण संधि में संशोधन कर घरेलू हिंसा को किसी आरोपी की हिरासत मांगने का आधार बनाये जाने की भी सिफारिश की है.

महिला और बाल विकास मंत्रालय (डब्ल्यूसीडी) के एक अधिकारी ने बताया कि एनआरआई से हुई शादियों में आम तौर पर अपराधी का पता लगाना मुश्किल काम होता है.

उन्होंने कहा, ‘‘सबसे बड़ी दिक्कत नोटिस देने में आती है क्योंकि आपके पास पता नहीं होता.’’ सूत्र ने कहा कि यह रिपोर्ट केवल एनआरआई तक सीमित है. इसमें विदेश में रह रहे भारतीय मूल के लोगों के अलावा किसी और को शामिल करने की अनुशंसा नहीं की गई है.

उन्होंने बताया कि सिर्फ भारतीय पासपोर्ट धारकों के लिए इसे अनिवार्य बनाये जाने की सिफारिश की गई है.

ये भी पढ़ें-
दुबई में करोड़ों की ठगी करने वाला एनआरआई मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार
ये है एनआरआई लुटेरा पति, महिला आयोग करेगा पासपोर्ट रद्द करने की सिफारिश


 

 
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर