Assembly Banner 2021

सिद्धारमैया की पीएम मोदी से अपील, कहा-निजी अस्पतालों को प्रति टीका 250 रुपये शुल्क पर दोबारा करें विचार

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने मुफ्त टीकाकरण की वकालत की है .

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने मुफ्त टीकाकरण की वकालत की है .

Corona vaccinations: पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण अभियान धीमी गति से चल रहा है और देश में अब तक आधे प्रतिशत लोगों का टीकाकरण किया गया है जबकि दूसरे देश अपने लोगों के बीच तेजी से प्रतिरक्षा बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं .

  • Share this:
बेंगलुरु. कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निजी अस्पतालों को प्रति टीका 250 रुपये (Corona vaccine in Private Hospital) शुल्क वसूलने की अनुमति दिये जाने के निर्णय पर दोबारा विचार करने का आग्रह किया और कहा कि यह महामारी के खिलाफ संघर्ष में एक निवारक के रूप में काम करेगा.

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने मुफ्त टीकाकरण की वकालत की है. सिद्धरमैया ने पत्र में लिखा है, ‘‘निजी स्वास्थ्य केंद्रों को टीका लगाने के लिए 250 रुपये शुल्क वसूलने की अनुमति देने के केंद्र सरकार के फैसले से सभी के लिए प्रतिरक्षा सुनिश्चित करने और (कोरोना वायरस) के प्रसार को रोकने के प्रयासों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा.’’

हर भारतीय को फ्री में मिले कोरोना का टीका
उन्होंने लिखा, ‘‘मैं भारत के प्रधानमंत्री से आग्रह करता हूं कि इस निर्णय पर दोबारा विचार करें और प्रत्येक भारतीय के लिए शून्य कीमत (बिना किसी शुल्क के) पर टीकाकरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें.’’ पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण अभियान धीमी गति से चल रहा है और देश में अब तक आधे प्रतिशत लोगों का टीकाकरण किया गया है जबकि दूसरे देश अपने लोगों के बीच तेजी से प्रतिरक्षा बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं .
विदेशों में वैक्सीनेशन के बारे में दी जानकारी


उनके अनुसार इजरायल ने 36 प्रतिशत नागरिकों का टीकाकरण किया है जबकि अमेरिका और ब्रिटेन में क्रमश: छह एवं चार फीसदी लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है. सिद्धारमैया ने रेखांकित किया कि भारत में इस दर में तभी प्रगति हो सकती है जब लोगों के लिए बिना किसी कीमत के यह टीका हर जगह उपलब्ध हो. टीकाकरण अभियान के लिए निजी संस्थानों के साथ समझौते का समर्थन करते हुए कांग्रेस नेता ने सुझाव दिया कि केंद्र एवं राज्य सरकारों को प्रतिपूर्ति के लिए बोझ उठाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज