नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ जारी हुआ रेड कॉर्नर नोटिस

रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो जाने के बाद इंटरपोल दुनिया के किसी भी कोने से संबंधित व्यक्ति को गिरफ्तार करने की कोशिश करती है

भाषा
Updated: March 14, 2018, 7:18 PM IST
नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ जारी हुआ रेड कॉर्नर नोटिस
नीरव मोदी और मेहुल चोकसी
भाषा
Updated: March 14, 2018, 7:18 PM IST
प्रवर्तन निदेशालय ( ईडी) ने 12,000 करोड़ रुपए से ज्यादा के पीएनबी घोटाले के सिलसिले में हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए इंटरपोल का रुख किया है. अधिकारियों ने बताया कि मनी लॉड्रिंग मामले में अदालत की ओर से जारी गैर- जमानती वॉरंट के आधार पर ईडी ने नीरव और मेहुल के खिलाफ इंटरपोल वॉरंट जारी करने की मांग की है. ईडी ने इस बाबत सीबीआई के पास अपना अनुरोध भेजा है ताकि फ्रांस के ल्योन स्थित इंटरपोल मुख्यालय के सामने यह मुद्दा उठाया जा सके.

किसी आपराधिक मामले की जांच के सिलसिले में प्रत्यर्पण या ऐसी ही कानूनी कार्रवाई के सिलसिले में वांछित लोगों के ठिकाने का पता लगाने और उनकी गिरफ्तारी के लिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जाता है. एक बार रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो जाने के बाद इंटरपोल दुनिया के किसी भी कोने से संबंधित व्यक्ति को गिरफ्तार करने की कोशिश करती है और उस देश को उसे हिरासत में लेने के बारे में अधिसूचित करती है ताकि उनकी ओर से आगे की कार्रवाई की जा सके.

मुंबई की एक विशेष अदालत ने इस महीने की शुरुआत में ईडी के अनुरोध पर गैर- जमानती वॉरंट जारी किया था. इससे पहले, ईडी ने घोटाले के मुख्य आरोपियों नीरव और मेहुल को सम्मन जारी किया था और उनसे मुंबई में एजेंसी के समक्ष पेश होने को कहा था. बहरहाल, दोनों ने कारोबार के सिलसिले में व्यस्त होने का हवाला देकर पेश न होने बात कही थी.

ये भी पढ़ें:

PNB स्कैम: असमी ज्वैलर्स के खुलासे के बाद घोटाले की रकम बढ़कर हुई 13,578 करोड़

पीएनबी घोटाला : वकील का दावा, नीरव मोदी ने नहीं किया कोई घोटाला

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर