Assembly Banner 2021

केरल विमान हादसा: जानें एयर इंडिया विमान के क्रैश होने से तुरंत पहले क्या हुआ था?

8 अगस्त, 2020 को केरल के कोझीकोड में उतरते समय रनवे से फिसल खाई में चली जाने वाली एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ान का मलबा (AP फोटो / शिजिथ श्रीधर)

8 अगस्त, 2020 को केरल के कोझीकोड में उतरते समय रनवे से फिसल खाई में चली जाने वाली एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ान का मलबा (AP फोटो / शिजिथ श्रीधर)

एयरलाइन (airline) ने एक बयान में बताया कि केरल (Kerala) के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी (senior police officer) अब्दुल करीम के मुताबिक शुक्रवार रात घायलों में से कम से कम 15 की हालत गंभीर थी. मृतकों में एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ान (Air India Express flight) के दोनों पायलट शामिल थे, जबकि चार केबिन क्रू (cabin crew) के सदस्य सुरक्षित थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 11:57 PM IST
  • Share this:
कोच्चि. दुबई से आ रहा एअर इंडिया एक्सप्रेस (Air India Express) का एक विमान शुक्रवार को केरल (Kerala) के कोझिकोड एयरपोर्ट (Kozhikode Airport) के रनवे पर फिसलने के बाद दुर्घटनाग्रस्‍त (Plane Crash) हो गया. वंदे भारत मिशन के तहत यह विमान विदेशों में फंसे भारतीयों को लेकर आ रहा था. लैंडिंग के दौरान फिसलकर यह विमान रनवे से खाई में गिर गया और दो भागों में टूट गया. इस दुर्घटना (accident) में 19 लोगों की मौत हो गई और 120 से अधिक घायल हो गए.

एयरलाइन (airline) ने एक बयान में बताया कि केरल के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी (senior police officer) अब्दुल करीम के मुताबिक शुक्रवार रात घायलों में से कम से कम 15 की हालत गंभीर थी. मृतकों में एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ान (Air India Express flight) के दोनों पायलट शामिल थे, जबकि चार केबिन क्रू (cabin crew) के सदस्य सुरक्षित थे.

2 साल पुरानी इस बोइंग फ्लाइट में 10 बच्चे भी थे
2 साल पुराने बोइंग 737-800 विमान ने दुबई से केरल के कोझिकोड, जिसे कालीकट भी कहा जाता के लिए उड़ान भरी थी. विमान में 174 वयस्क यात्री, 10 बच्चे, दो पायलट और चार केबिन क्रू थे.
दुबई में एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में नौकरी खोने के बाद तीन साल में पहली बार घर लौट रहे एक प्लंबर, रंजीत पनागढ़ ने अपने अस्पताल के बिस्तर पर ही लेटे हुए एक टेलीफोन इंटरव्यू में कहा कि दुर्घटना से पहले विमान फिसला और सब कुछ अंधेरा हो गया.



आपातकालीन निकास से रेंगकर निकले
उन्होंने बताया कि अन्य यात्रियों का पीछा किया, जो आपातकालीन निकास से निकल रहे थे, उनके साथ ही पनागढ़ भी बाहर निकले. बिना किसी बड़ी चोट के दुर्घटना से बच निकले पनागढ़ ने कहा, "बहुत सारे यात्रियों का खून बह रहा था." उन्होंने यह भी कहा, "मैं अभी भी समझ नहीं सका कि क्या हुआ था. जैसे ही मैं याद करने की कोशिश कर रहा हूं कि क्या हुआ था, मेरा शरीर कांप रहा है."

नियमित घोषणा, रनवे से टकराया विमान और फिर...
उन्होंने कहा कि पायलट ने लैंडिंग से पहले एक नियमित घोषणा की और विमान के रनवे से टकराने के कुछ क्षणों बाद ही यह नीचे की ओर झुक गया. उन्होंने कहा, "इसके चलते जोर का शोर हुआ और लोग चिल्लाने लगे."

शनिवार सुबह बारिश रुकने के बाद, खोजकर्ताओं ने एक उड़ान डेटा रिकॉर्डर बरामद किया, जब विमान दुर्घटना जांच ब्यूरो ने मलबे को हटाना शुरू कर दिया. एयर इंडिया एक्सप्रेस ने कहा था कि पीड़ितों के परिवारों की सहायता और सहायता के लिए इसकी टीमें भी कालीकट पहुंची थी.

यह भी पढ़ें: केरल विमान हादसा- पढ़ाई में बहुत तेज थे कैप्टन साठे, NDA ज्वॉइन करना था लक्ष्य

विमान का मलबा एक समतल पहाड़ी के नीचे पड़ा हुआ था. फ्लाइट का आगे का हिस्सा एक दीवार से टकराया और विमान का धड़ दो हिस्सों में बंट गया. केबिन झूल रहे थे और आस-पास सामान और सीटें बिखरी पड़ी थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज