लाइव टीवी

कांग्रेस और DMK ने फारूक अब्दुल्ला के रिहाई की मांग की, संसद के अंदर और बाहर लगाए नारे

भाषा
Updated: November 18, 2019, 4:56 PM IST
कांग्रेस और DMK ने फारूक अब्दुल्ला के रिहाई की मांग की, संसद के अंदर और बाहर लगाए नारे
फारूक अब्दुल्ला

संसद के शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) के पहले दिन लोकसभा (Loksabha) की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस, नेशनल कान्फ्रेंस, द्रमुक और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने इस विषय पर हंगामा शुरू कर दिया.

  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल कान्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) को श्रीनगर में हिरासत में रखे जाने का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस, द्रमुक और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने लोकसभा में सरकार पर निशाना साधा और लोकसभा अध्यक्ष से सरकार को अब्दुल्ला को तत्काल रिहा करने का आदेश देने का अनुरोध किया. इस मुद्दे पर विरोध जताते हुए कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वॉक आउट किया.

लोकसभा में हंगामा
संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन लोकसभा की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस, नेशनल कान्फ्रेंस, द्रमुक और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने इस विषय पर हंगामा शुरू कर दिया. उनके साथ ही शिवसेना के सदस्य महाराष्ट्र में किसानों के मुद्दे पर नारेबाजी कर रहे थे.

लोगसभा में लगे नारे

कांग्रेस के सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के निकट पहुंच गए. उन्होंने ‘फारूक अब्दुल्ला को वापस लाओ’ और ‘लोकतंत्र की हत्या बंद करो’ के नारे लगाए. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने हंगामे के बीच ही प्रश्नकाल चलाना शुरू किया. उन्होंने इस दौरान विपक्षी सदस्यों से अपनी सीटों पर जाने का आग्रह करते हुए कहा कि वह हर विषय पर चर्चा को तैयार हैं और सदन में नारेबाजी नहीं होनी चाहिए.

अध्यक्ष ने शांत कराया
उन्होंने कहा, 'सदन सबकी सहमति से चलता है, सभी सदस्य सदन की गरिमा बनाये रखें.' सदन में नारेबाजी के बीच संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि सरकार हर विषय पर चर्चा के लिए तैयार है. कार्य मंत्रणा समिति में जो मुद्दे तय होंगे उन पर नियमों के अनुसार चर्चा होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खुद इस बारे में आश्वासन दिया है.
Loading...

अधीर रंजन ने कहा जुल्म क्यों?
प्रश्नकाल में कांग्रेस, द्रमुक, नेशनल कान्फ्रेंस के सदस्य आसन के समीप नारेबाजी करते रहे. प्रश्नकाल समाप्त होने के बाद अध्यक्ष ने कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी को उनकी बात रखने का मौका दिया. इस दौरान हंगामा कर रहे सदस्य अपनी सीटों पर जाकर बैठ गये.

सदन में कांग्रेस के नेता चौधरी ने कहा कि गत पांच अगस्त को गृह मंत्री अमित शाह ने सदन को आश्वासन दिया था कि फारुक अब्दुल्ला को हिरासत में नहीं लिया गया है और उनकी सेहत खराब है. लेकिन वह 108 दिन से हिरासत में हैं. उन्होंने कहा, ‘‘यह अन्याय और जुल्म क्यों?’ चौधरी ने मांग की कि नेशनल कान्फ्रेंस नेता अब्दुल्ला को तत्काल रिहा कर सदन में लाया जाए.

कश्मीर जाने की इजाजत क्यों नहीं?
उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश के सांसदों को कश्मीर जाने की इजाजत नहीं है और पार्टी नेता राहुल गांधी को श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोक लिया गया लेकिन यूरोपीय सांसदों को कश्मीर आने की इजाजत दे दी गयी. चौधरी ने आरोप लगाया, ‘‘यह सभी सांसदों का अपमान है. सरकार जम्मू कश्मीर को आंतरिक मामला बताती है लेकिन उसने इसे अंतरराष्ट्रीय मामला बना दिया.’’ चौधरी ने इस विषय पर सदन में चर्चा की भी मांग की.

अब्दुल्ला हिरासत में क्यों?
उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटाये जाने का भी विषय उठाया. लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि जब गृह मंत्री ने सदन में कहा था कि फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में नहीं लिया गया है तो यह बात सत्य थी क्योंकि तब तक सदन को उनके हिरासत में रखे जाने की कोई सूचना नहीं थी.

DMK ने उठाए सवाल
द्रमुक के टी आर बालू ने कहा कि सरकार ने अब्दुल्ला को किस कानून के तहत हिरासत में लिया? नेशनल कान्फ्रेंस के हसनैन मसूदी ने कहा कि फारूक अब्दुल्ला 5 अगस्त को भी हिरासत में थे, इस बात के सबूत हैं. उन्होंने कहा कि वह न्यायिक हिरासत में नहीं हैं, बल्कि जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत एहतियातन हिरासत में है. इसलिए लोकसभा अध्यक्ष सरकार को उन्हें रिहा करने का आदेश दे सकते हैं और उनका प्रतिनिधित्व सदन में सुनिश्चित कर सकते हैं.

तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि अब्दुल्ला 83 साल के हैं और वरिष्ठ सदस्य हैं. उन्हें 108 दिन से हिरासत में रखने का सरकार ने कोई कारण नहीं बताया है.उन्होंने मांग की कि अध्यक्ष सरकार को अब्दुल्ला को तत्काल रिहा करने का निर्देश दें.

अध्यक्ष बोले विचार करेंगे
अध्यक्ष बिरला ने कहा कि सभी दलों के नेता आज होने वाली कार्य मंत्रणा समिति (बीएसी) की बैठक में इस विषय पर लंबी चर्चा का सुझाव दे सकते हैं और वह सरकार से इसके लिए आग्रह करेंगे. इस विषय पर असंतोष जताते हुए कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया. इससे पहले शिवसेना के सदस्यों ने भी वाकआउट किया.

ये भी पढ़ें:

Analysis: झारखंड में रघुवर सरकार को घेरने के लिए विपक्ष की नयी रणनीति

अदिति सिंह को पहली ही मुलाकात में भा गए थे होने वाले पति, यह बात लगी थी अच्छी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 3:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...