कोरोना काल में कर्मचारियों और उनकी फैमिली की मदद को रिलायंस ने बढ़ाए हाथ

अपने कर्मचारियों के लिए कंपनी ने फैमिली सपोर्ट एंड वेलफेयर स्कीम की घोषणा की है.

अपने कर्मचारियों के लिए कंपनी ने फैमिली सपोर्ट एंड वेलफेयर स्कीम की घोषणा की है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) और रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन और संस्थापक नीता अंबानी (Nita Ambani) ने एक खत लिखकर 'रिलांयस फैमिली सपोर्ट एंड वेलफेयर स्कीम' की घोषणा की है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के इस बुरे दौर में रिलांयस ने अपने कर्मचारियों और उनके परिवार के लिए मदद का हाथ आगे बढ़ाया है. 'हम खयाल रखते हैं' कि भावना का सम्मान करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) और रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन और संस्थापक नीता अंबानी (Nita Ambani) ने एक खत लिखकर 'रिलांयस फैमिली सपोर्ट एंड वेलफेयर स्कीम' की घोषणा की है. आइए जानते हैं खत में क्या कहा गया है...

प्रिय साथियो,

कोविड-19 महामारी हमारे सामने हाल के इतिहास में सबसे भयावह अनुभव लेकर सामने आई है. हममें से कुछ लोग अपने अमूल्य सहयोगियों, पारिवारिक सदस्यों और प्रियजनों की दुखद मृत्यु से उपजे हालात का सामना कर रहे हैं.

चूंकि ''रिलायंस एक परिवार' है इसलिए हरेक की जिंदगी में हुई क्षति अपूरणीय है और हमारी सामूहिक चेतना पर गहरा असर रखती है. हालांकि किसी के भी प्रियजन की जीवनहानि की क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकती है. लेकिन इस मुश्किल दौर में हम धैर्य और विश्वास के साथ उनके परिवार के हर सदस्य की मदद के लिए समर्पित रहे हैं.
हम रिलायंस में एक-दूसरे का खयाल रखते हैं और अपने कर्मचारियों के कल्याण को सबसे पहली प्राथमिकता देते हैं.

कोरोना के इस दौर में जान गंवाने वाले साथियों के परिवारों के दुख के वक्त में रिलायंस पूरी ताकत से साथ खड़ा है. रिलायंस परिवार के एक सदस्य के तौर पर आपके साथ वादे को पूरा करने के लिए हम रिलांयस फैमिली सपोर्ट एंड वेलफेयर स्कीम की घोषणा कर रहे हैं...

1-किसी भी मृतक कर्मचारी के नॉमिनी को आखिरी बार मिली सैलरी जितनी धनराशि अगले पांच साल तक दी जाएगी.



2-बच्चों को भारत के किसी भी इंस्टीट्यूट में ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई, ट्यूशन फीस, हॉस्टल, किताबें मुफ्त मुहैया कराई जाएंगी.

3-जीवनसाथी, माता-पिता, बच्चों (ग्रेजुएशन तक) के अस्पताल में भर्ती होने का पूरा खर्च रिलायंस द्वारा वहन किया जाएगा.

इसके अलावा, कोविड-19 से व्यक्तिगत रूप से या फिर पारिवारिक तौर पर प्रभावित साथी विशेष कोविड लीव ले सकते हैं. ये छुट्टी उन्हें शारीरिक और मानसिक तौर पर रिकवर होने के लिए दी जाएगी. इस लीव पॉलिसी का उद्देश्य ये है कि साथी अपनी और पारिवारिक सदस्यों की रिकवरी पर ध्यान दे सकें. (इस संबंध में पूरी जानकारी ESS/R-Connect पोर्टल से हासिल की जा सकती है.)

प्रिय साथियो, ये वक्त निराशाजनक दिखाई दे रहा है लेकिन हमेशा याद रखें कि आप अकेले नहीं हैं. पूरा रिलांयस आपके और परिवार के साथ खड़ा है. 'एक टीम' के तौर पर 'ओनरशिप माइंडसेट' के साथ हम एक हैं कि इन कठिन परिस्थितियों से लड़ते रहेंगे, जब तक जीत न मिल जाए.

ऑफ रोल कर्मचारियों के लिए

रिलायंस समूह ने ऑफ रोल कर्मचारियों के लिए भी विशेष घोषणा की है और कहा है कि कोविड-19 महामारी ने हमें झकझोर कर रख दिया है. हममें से कई लोग कोरोना के कारण जान गंवाने वाले अपने साथियों, परिवार के सदस्यों और स्वजनों के दुख से उबरने की कोशिश कर रहे हैं. दुख की इस घड़ी में रिलायंस आपके साथ खड़ा है. ग्रुप के किसी सदस्य की कोरोना से मृत्यु होने पर रिलांयस शोक संतप्त परिवार की इस तरह मदद कर रहा है.

शोक संतप्त परिवार की देखभाल और मदद के लिए मृतक के नॉमिनी को एकमुश्त 10 लाख रुपये का भुगतान किया जाएगा. यह पैसा रिलायंस फाउंडेशन के जरिए दिया जाएगा.

हम लड़ने के जज्बे को न छोड़े. क्योंकि निश्चित रूप से हमारे लिए बेहतर दिन आएंगे. जब तक वो समय न आ जाए, हम प्रार्थना करते हैं कि शोकसंतप्त परिवारों को शक्ति मिले जिससे वो दुख का सामना कर सकें. तब तक भविष्य के लिए आशावान बने रहें और एक-दूसरे का साथ निभाते रहें.

(डिस्क्लेमर- नेटवर्क18 और टीवी18 कंपनियां चैनल/वेबसाइट का संचालन करती हैं, जिनका नियंत्रण इंडिपेंडेट मीडिया ट्रस्ट करता है, जिसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज एकमात्र लाभार्थी है.)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज