देश में कोरोना के कोहराम के बीच इन तीन राज्यों में 100 से भी कम हैं कोविड-19 के एक्टिव केस

सबसे कम एक्टिव केस के मामले में अरुणाचल प्रदेश शीर्ष पर है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

सबसे कम एक्टिव केस के मामले में अरुणाचल प्रदेश शीर्ष पर है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

Coronavirus in India: प्रमुख राज्यों में से एक महाराष्ट्र (Maharashtra) में स्थिति सबसे ज्यादा भयावह है. यहां अब तक कोरोना वायरस के 35 लाख से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं. बीते कुछ दिनों से राज्य में रोज मिलने वाले मरीजों की संख्या 50 हजार के ऊपर बनी हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2021, 1:19 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) से देश के कई राज्यों में स्थिति विकराल हो चुकी है. कई शहरों, प्रदेशों में रोज मिलने वाले मरीजों की संख्या रिकॉर्ड स्तर को छू रही है. हालांकि, अभी हालात पूरे भारत में नहीं बिगड़े हैं. ऐसे में कुछ राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ऐसे भी हैं, जहां स्थिति फिलहाल काबू में है. इन क्षेत्रों में रोज मिलने वाले मरीजों और एक्टिव मामलों (Active Cases) की संख्या अन्य राज्यों की तुलना में कम है.

प्रमुख राज्यों में से एक महाराष्ट्र में स्थिति सबसे ज्यादा भयावह है. यहां अब तक कोरोना वायरस के 35 लाख से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं. बीते कुछ दिनों से राज्य में रोज मिलने वाले मरीजों की संख्या 50 हजार के ऊपर बनी हुई. इधर, राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन के स्थान पर कड़ी पाबंदियों का ऐलान किया है. महाराष्ट्र, केरल और कर्नाटक में संक्रमितों का आंकड़ा 10 लाख से ज्यादा है. वहीं, छत्तीसगढ़ में कोविड की स्थिति खराब है.

Youtube Video


अरुणाचल प्रदेश
देश के उत्तर-पूर्व में स्थित अरुणाचल प्रदेश में अब तक 16 हजार 902 मरीज मिल चुके हैं. इनमें से 56 मरीजों ने अपनी जान गंवा दी है. हालांकि, इस दौरान सबसे अच्छी खबर है कि राज्य में एक्टिव केस की संख्या महज 55 ही है. आंकड़ों के लिहाज से देखें, तो सबसे कम एक्टिव केस के मामले में अरुणाचल प्रदेश शीर्ष पर है. सरकारी आंकड़े बताते हैं कि यहां अब तक 1 लाख 51 हजार 893 मरीजों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है. इनमें से 1 लाख 18 हजार 896 को पहला डोज. जबकि, 33 हजार 24 मरीजों को दूसरा डोज मिल चुका है.

यह भी पढ़ें: कोरोना का खात्मा करेगा 'क्रांतिकारी' स्प्रे, नाक में जाएगा और मारेगा 99.99 फीसदी वायरस

लक्षद्वीप



करीब 65 हजार की आबादी वाले इस केंद्र शासित प्रदेश में कोरोना वायरस के 834 मामले मिल चुके हैं. इनमें से केवल एक मरीज की ही मौत हुई है. यहां 741 मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं. सबसे कम एक्टिव केस के मामले में इसे देश का तीसरा क्षेत्र कहा जा सकता है. यहां कुल 87 मरीजों का इलाज जारी है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार, यूटी में अब तक 14 हजार 571 लाभार्थियों को वैक्सीन दी जा चुकी है. इनमें से पहला डोज पाने वालों की संख्या 11 हजार 852 है. जबकि, 2 हजार 719 लाभार्थी दूसरा डोज प्राप्त कर चुके हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस महामारी का अंत अभी काफी दूर है, वैक्सीन इकलौता हथियार नहीं: WHO चीफ

अंडमान एंड निकोबार आईलैंड

सबसे कम एक्टिव मरीजों की सूची में अंडमान एंड निकोबार आईलैंड तीसरे नंबर पर काबिज है. यहां फिलहाल 93 मरीजों का इलाज जारी है. खास बात है कि यहां 5 हजार 209 मरीज मिल चुके हैं. जिनमें से 5 हजार 54 मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं. हालांकि, 62 लोग महामारी में अपनी जान गंवा चुके हैं. सरकारी डेटा के अनुसार, केंद्र शासित प्रदेश में 48 हजार 901 मरीजों को वैक्सीन दी जा चुकी है. इनमें से 43 हजार 069 को पहला डोज और 5 हजार 832 को दूसरा डोज लगाया जा चुका है.

(कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रहे मरीजों के आंकड़े www.covid19india.org से लिए गए हैं.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज