लाइव टीवी

लोकप्रिय कार्टूनिस्ट सुधीर दर का निधन, अखबारों के साथ विश्वबैंक के लिए भी बनाए थे कार्टून

News18Hindi
Updated: November 26, 2019, 7:57 PM IST
लोकप्रिय कार्टूनिस्ट सुधीर दर का निधन, अखबारों के साथ विश्वबैंक के लिए भी बनाए थे कार्टून
कार्टूनिस्ट सुधीर धर का 87 साल की उम्र में निधन हो गया है (फाइल फोटो, Instagram)

इलाहाबाद (अब प्रयागराज) में जन्मे सुधीर दर (Sudhir Dar) ने अपना करियर ऑल इंडिया रेडियो (AIR) के साथ शुरू किया था. जहां वे एक अनाउंसर (Announcer) के तौर पर काम करते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2019, 7:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चर्चित कार्टूनिस्ट सुधीर दर (Renowned Cartoonist Sudhir Dar) का मंगलवार की सुबह 87 साल की उम्र में निधन हो गया है. उनका निधन हार्ट अटैक (Heart Attack) के चलते हुई. उन्होंने कई अखबारों के लिए कार्टून (Cartoon) बनाने का काम किया था.

इलाहाबाद (अब प्रयागराज) में जन्मे सुधीर दर ने अपना करियर ऑल इंडिया रेडियो (AIR) के साथ शुरू किया था. जहां वे एक अनाउंसर के तौर पर काम करते थे. AIR के लिए काम करते हुए सुधीर दर ने एक दिन 'द स्टेट्समैन' अखबार के संपादक (Editor) के साथ एक शो रिकॉर्ड किया. शो के दौरान ही उन्होंने द स्टेट्समैन के संपादक का कार्टून बना दिया. इस कार्टून को देखकर एडिटर ने तुरंत उन्हें अपने अखबार में नौकरी ऑफर कर दी. बस 1961 से उन्होंने द स्टेट्समैन के लिए कार्टून बनाना शुरू कर दिया. उनका कॉलम अखबार में 'आउट ऑफ माई माइंड' नाम से आता था.

कई अखबारों के लिए किया काम
इसके कुछ सालों बाद वे हिंदुस्तान टाइम्स चले गए. जहां उन्होंने राजनीतिक कार्टूनिस्ट (Cartoonist) के तौर पर काम करना शुरू किया. हिंदुस्तान टाइम्स के साथ 1967 में शुरू हुई उनकी यात्रा करीब दो दशक तक चली. यहां पर काम करने के दौरान दर का कार्टून कॉलम हिंदुस्तान टाइम्स के फ्रंटपेज पर 'दिस इज इट' नाम से छपा करता था.


Loading...



उन्होंने इसके बाद द पायनियर, द इंडिपेंडेंट और देल्ही टाइम्स अखबारों के साथ भी काम किया और साल 2000 में उन्होंने अंतत: एक फ्रीलांसर (Freelancer) के तौर पर काम करना शुरू कर दिया. उनकी प्रसिद्धि में चार चांद तब लग गए जब उनके कार्टून न्यूयॉर्क टाइम्स, वॉशिंगटन पोस्ट और सैटरडे रिव्यू या मैड मैग्जीन जैसे विश्वविख्यात अखबारों और पत्रिकाओं में छपने लगे. जिसमें उन्हें 'टेस्टी इंडियन नट' कहा गया.

कई मंत्रालयों के अलावा विश्वबैंक के लिए भी बनाए थे कानून
हालांकि दर एक राजनीतिक कार्टूनिस्ट थे, उन्होंने खुद को किसी विशेष पॉलिटिशियन पर व्यंग्य नहीं किया. इसके बजाए उन्होंने ज्यादा साधारण विषयों जैसे भ्रष्टाचार (Corruption) और नौकरशाही को अपने कार्टून का केंद्र बनाया. एक वरिष्ठ कार्टूनिस्ट उनके बारे में कहते हैं कि वे राजनीतिक व्यक्ति नहीं थे हालांकि उनके व्यंग्य बहुत मारक होते थे.



अखबारों में कार्टून बनाने के साथ ही सुधीर दर ने पर्यटन मंत्रालय, विदेश मंत्रालय और जम्मू-कश्मीर सरकार की डायरियों के लिए भी कार्टून बनाए और 20 साल तक विश्व बैंक (World Bank) का कैलेंडर भी बनाते रहे.

दर के कार्टून, उनकी कलात्मकता और व्यंग्यात्मकता को उनके प्रशंसक उनके जाने के बाद मिस करेंगे. देश भर में उनके बहुत से प्रशंसक हैं, जिनके दिलों में उनका काम उनकी याद को बनाए रखेगा.

यह भी पढ़ें: कभी दोपहर की नींद से था बेहद प्यार लेकिन सरकार बनाने को 72 घंटे जागे रहे उद्धव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 7:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...