शास्‍त्रीय संगीत की लोकप्रिय गायिका किशोरी अमोनकर का देर रात मुंबई में निधन

Kishori Amonkar (File Photo)

Kishori Amonkar (File Photo)

प्रसिद्ध हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायिका किशोरी अमोनकर का सोमवार देर रात निधन हो गया.

  • Last Updated: April 4, 2017, 9:00 AM IST
  • Share this:
मुंबई. शास्त्रीय संगीत की एक और लोकप्रिय ‘तान’ सोमवार देर रात हमेशा के लिए शांत हो गई. प्रसिद्ध हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायिका किशोरी अमोनकर का सोमवार देर रात निधन हो गया.



किशोरी अमोनकर 84 वर्ष की थीं. मध्य मुंबई स्थित अपने घर पर उन्होंने अंतिम सांस ली. बताया जा रहा कि वे पिछले कुछ दिनों से बीमार थीं.



महाराष्ट्र के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव और मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने उनके निधन पर शोक जताया है. अमोनकर का जन्म 10 अप्रैल 1932 को हुआ था. अमोनकर को वर्ष 1987 में पद्म भूषण और 2002 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. 2010 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी का फेलो नियुक्त किया गया.


अमोनकर की माता मोगुबाई कुर्दिकर भी गायिका थीं. मोनकर ने गायन और जयपुर घराने की बारीकियां अपनी मां से सीखी थीं. गायिकी की अपनी अगल शैली के चलते संगीत की दुनिया में उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई थी. उन्हें हिंदुस्तानी संगीत की पारंपरिक रागों पर शास्त्रीय ख्याल गायिकी में महारत हासिल थी। ठुमरी, भजन और फिल्मी संगीत में भी उन्होंने पहचान बनाई.





1964 में आई फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ का टाइटल सॉन्ग उन्होंने गाया था. 1990 में आई फिल्म ‘दृष्टि’ में भी उन्होंने गाया था. इससे पहले ग्वालियर घराने की शास्त्रीय संगीत गायिका वीणा सहस्रबुद्धे (67) का 30 जून, 2016 को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था.



किशोरी अमोनकर का एक भजन यहां सुनें-

Youtube Video

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज