भारत में 2016 में निमोनिया और डायरिया से 2.6 लाख बच्चों की हुई मौत- रिपोर्ट

दुनियाभर में निमोनिया और अतिसार से पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मौत के 70 प्रतिशत मामले भारत में दर्ज किये गये हैं.

भाषा
Updated: November 10, 2018, 3:52 AM IST
भारत में 2016 में निमोनिया और डायरिया से 2.6 लाख बच्चों की हुई मौत- रिपोर्ट
symbolic photo
भाषा
Updated: November 10, 2018, 3:52 AM IST
बच्चों में डायरिया का प्रमुख कारण माने जाने वाले रोटावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए भारत में टीकाकरण उन 15 देशों में सबसे कम है, जिन्होंने इसे पिछले साल शुरू किया था. शुक्रवार को एक ताजा रिपोर्ट में यह बात सामने आई है.

इसमें यह भी कहा गया है कि भारत में 2016 में निमोनिया और डायरिया (अतिसार) से पांच साल से कम उम्र के 2.6 लाख से अधिक बच्चों की मौत हो गई. रिपोर्ट में भारत समेत 15 देशों में स्वास्थ्य प्रणाली को यह सुनिश्चित करने में पिछड़ा बताया गया है कि अधिक से अधिक संवेदनशील बच्चों को रोकथाम और उपचार सेवाएं मिल सकें.

ये भी पढ़ें: ये है विश्व की सबसे ख़तरनाक संक्रामक बीमारी, पिछले साल मरे थे 16 लाख लोग

दुनियाभर में निमोनिया और अतिसार से पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मौत के 70 प्रतिशत मामले भारत में दर्ज किये गये हैं. रिपोर्ट के अनुसार, ‘2017 में वैक्सीन शुरू करने वाले देशों में सबसे कम दर पाकिस्तान और भारत की है.’

ये भी पढ़ें:  24 घंटे में कोमा में जा सकता है निपाह का मरीज़, वायरस फैलने की ये है बड़ी वजह
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर